Uncategorized

अब आइएफएस और डेवलपमेंट प्रोफेशनल्स नहीं बन सकेंगे डीडीसी, अफसरों ने नहीं दिखाई रूचि, पद वापस

पहले राज्य प्रशासनिक सेवा के 12 अफसरों को ही डीडीसी के पद पर तैनात करने का आदेश जारी किया गया था

Ranchi:  अब भारतीय वन सेवा (आइएफएस) के साथ डेवलपमेंट प्रोफेसनल्स की नियुक्ति डीडीसी (उप विकास आयुक्त) के पद पर नहीं होगी. अब राज्य प्रशासनिक सेवा के लिए चिन्हित सभी 18 पदों पर ज्वाइंट सेक्रेट्री रैंक के अफसरों की ही तैनाती होगी. इससे पहले ग्रामीण विकास विभाग के संकल्प संख्या 977 द्वारा उप विकास आयुक्त के पदस्थापन और नियुक्ति के लिए राज्य प्रशासनिक सेवा के पदों को घटा दिया गया था. राज्य प्रशासनिक सेवा के 18 पद डीसीसी के लिए थे. इसे घटा कर 12 कर दिया गया था. जारी आदेश में कहा गया था कि छह पदों पर आइएफएस और डेवलपमेंट प्रोफेनल्स की नियुक्ति की जायेगी. जिसे 11 फरवरी 2016 को हुई कैबिनेट की बैठक में मंजूरी भी दी गई थी.

इसे भी पढ़ेंः कोलकाता: एसटीएफ ने जब्त किये एक हजार किलो विस्फोटक, दो गिरफ्तार

आइएफएस अफसर व डेवलपमेंट प्रोफेनल्स ने नहीं दिखाई रूचि

अब जारी आदेश में कहा गया है कि ग्रामीण विकास विभाग द्वारा जारी संकल्प के निर्गत होने के बाद लगभग चार साल के दौरान डेवलपमेंट प्रोफेशनल्स को उप विकास आयुक्त के पद पर पदस्थापन नहीं किया जा सका. वहीं भारतीय वन सेवा (आइएफएस) के दो अफसर खूंटी और पाकुड़ में उप विकास आयुक्त के पद पर पदस्थापित किये गये लेकिन वे काफी कम समय तक ही डीडीसी के पद पर रहे. इसके पीछे तर्क दिया गया कि आइएफएस अफसरों और डेवलपमेंट प्रोफेशनल्स ने इस पद के लिए रूचि नहीं दिखायी.

advt

इसे भी पढ़ेंः राज्य कर्मियों की तरफ से टीडीएस का ब्योरा नहीं दिये जाने से हो रहा है वेतन में विलंब

सरकार ने क्या लिया निर्णय

भारतीय वन सेवा और डेवलपमेंट प्रोफेनल्स के लिए चिन्हित पदों पर नियुक्ति नहीं किये जाने और भारतीय वन सेवा के पदाधिकारियों को अल्प अवधि तक डीडीसी के पद पर पदस्थापित किये जाने की स्थिति में छह पदों का छोड़ा जाना प्रासंगिक प्रतीत नहीं होता है. इस कारण आइएफएएस और डेवलपमेंट प्रोफेशनल्स के लिए छह पदों पर राज्य प्रशासनिक सेवा के अफसरों की ही तैनाती की जायगी. राज्य प्रशासनिक सेवा के 120 पद संयुक्त सचिव रैंक के हैं, जिसमें अब डीडीसी के 18 पद राज्य प्रशासनिक सेवा के अफसरों के लिए ही होंगे. कार्मिक ने इसका आदेश जारी कर दिया है.

इसे भी पढ़ेंः गिरिडीह लोकसभाः सांसद रविंद्र पांडेय, विधायक ढुल्लू महतो और संपादक शिवशक्ति बख्शी अब क्या करेंगे ?

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button