Lead NewsOFFBEAT

अगर आप भी शादी करनेवाले हैं तो दो का पहाड़ा जरूर याद कर लिजिये जनाब

फेरों के वक्त दो का पहाड़ा नहीं सुना पाया दूल्हा, नाराज दुल्हन ने शादी से किया इनकार

Mahoba : आपने अक्सर ऐसे किस्से सुने होंगे कि शादी में ऐन फेरे के वक्त दहेज या अन्य कारणों से शादी टूट गई या दुल्हन ने शादी करने से इनकार कर दिया, लेकिन हाल ही में महोबा में एक ऐसा ही अनोखा मामला सामने आया है, जब फेरे के वक्त दुल्हन ने दूल्हे के सामने ऐसी मांग रख दी कि जिसे दूल्हा पूरा नहीं कर पाया और शादी टूट गई.

दरअसल फेरे के समय ने दुल्हन ने मांग की थी कि दूल्हा दो का पहाड़ा सुनाए, लेकिन दूल्हा नहीं सुना पाया और नाराज दुल्हन ने शादी करने से साफ इनकार कर दिया.

advt

दूल्हे की शैक्षणिक योग्यता पर था शक

दुल्हन को अपने होने वाले पति की शैक्षणिक योग्यता पर पहले से शक था. दूल्हा जब बारात लेकर पहुंचा तो जयमाला का आदान-प्रदान होने से पहले दुल्हन ने कहा कि पहले दूल्हे को दो का पहाड़ा सुनाना पड़ेगा.

लेकिन अशिक्षित दूल्हा दो का पहाड़ा भी नहीं सुना पाया. चूंकि शादी के दौरान दो परिवार के सदस्य और गांव के भी कई लोग एकत्र हुए थे, तभी यह पूरा घटनाक्रम हुआ.

जब दूल्हा पहाड़ा नहीं सुना पाया तो दुल्हन ने शादी से साफ इनकार कर दिया. दूल्हन ने मंडप से बाहर निकलते हुए शादी से इनकार करते हुए कहा कि वह किसी ऐसे व्यक्ति से शादी नहीं कर सकती, जिसे गणित की मूल बातें पता नहीं हैं. ऐसे में परिवार व दोस्तों ने भी दुल्हन को बहुत समझाने की कोशिश की लेकिन सभी नाकाम रहें.

इसे भी पढ़ें :राज्य सरकारें आक्सीजन सप्लाई बढ़ाने के लिए लगा रहीं गुहार, केंद्र का जवाब जरूरत के हिसाब से हो रही आपूर्ति

यूपी के महोबा के धवार गांव का मामला

यह पूरा घटनाक्रम उत्तर प्रदेश के महोबा जिले के धवार गांव का है. स्थानीय अधिकारी विनोद कुमार ने बताया कि यह एक अरेंज मैरिज थी और दुल्हन शिक्षित है, जबकि दूल्हा अशिक्षित है.

दुल्हन के चचेरे भाई ने भी कहा कि वे यह जानकर चौंक गए कि दूल्हा अशिक्षित था. उसने कहा, “दूल्हे के परिवार ने हमें उसकी शिक्षा के बारे में अंधेरे में रखा था. वह स्कूल भी नहीं गया होगा.

दूल्हे के परिवार ने हमें धोखा दिया है. दुल्हन के भाई ने भी अपनी बहन की तारीफ करते हुए कहा कि मेरी बहादुर बहन सामाजिक वर्जनाओं के डर के बिना बाहर चली गई.

” बाद में दोनों पक्षों आपसी समझौते से मामले का निराकरण किया और पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया. समझौते के मुताबिक दूल्हा और दुल्हन के परिवार वाले उपहार और आभूषण एक-दूसरे को लौटा देंगे.

इसे भी पढ़ें :पांच मई को लगातार तीसरी बार बंगाल के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगी ममता बनर्जी

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: