ChaibasaJamshedpurJharkhand

लाल किले की प्राचीर से पीएम का संबोधन नहीं सुना है तो इसे जरूर पढ़ लें…

Sanjay Prasad
क्या अगला 25 साल भारत के लिए निर्णायक होगा या 75 सालों की कमियों और उपलब्धियों पर आरोप-प्रत्यारोप में गुजर जाएगा. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश को विकसित राष्ट्र बनाने के अपने सपने को साकार कर पाएंगे या यह महज भाषणों तक सीमित रह जाएगा? जो लोग भारत के 75 साल की आजादी पर लाल किले की प्राचीर से पीएम मोदी के संबोधन को सुने होंगे, उनकी जेहन में यह सवाल आना लाजिमी है. लेकिन जो नहीं सुने, उन्हें जरूर सुनना या इसके बारे में जानना चाहिए. प्रधानमंत्री ने एक घंटे के अपने संबोधन में भारत के इतिहास और विरासत से लेकर भारत के भविष्य की जो तस्वीर दिखाई, वह काबिल ए तारिफ थी. लेकिन सबके मन में एक ही सवाल कि क्या भारत 2047 तक एक विकसित राष्ट्र बन पाएगा, जब हम अपनी आजादी का शताब्दी समारोह बना रहे होंगे. तो आइए जानते हैं मोदी जी ने कहा क्या और अगर इस पर अमल हुआ तो कैसे भारत एक विकसित राष्ट्र बन सकता है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि अगला 25 साल पुर्नजागरण का काल होगा. उन्होंने पंच प्राण की शक्ति बताई, जो ये हैं.
1.बड़े संकल्प लेकर चलना होगा यानि भारत को विकसित राष्ट्र बनाना है. देश के युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि अगला 25 साल भारत के सपने को पूरा करने का साल होगा.
2.गुलाम मानसिकता से मुक्ति-पीएम ने कहा कि देश को गुलाम मानसिकता से मुक्ति दिलानी है. मनोभाव और सोच की विकृति को खत्म करना है. कब तक दुनिया हमें सर्टिफिकेट देती रहेगी. हम अपने मानक क्यों नहीं बनाएं? नई शिक्षा नीति इस गुलाम मानसिकता को खत्म करने में मददगार साबित होगी.
3.अपने विरासत पर गर्व होना चाहिए-हमें अपने विरासत पर गर्व करना सीखना होगा. अपनी धरती से जुड़ेंगे.. तभी तो ऊंचा उडेंगे. हमारे योग, आयुर्वेद और जीवन शैली को दुनिया अपना रही है. परिवार और प्रकृति का महत्व आज दुनिया मान रही है. नर में नारायण और वसुधैव कुटुम्बकम हमारी विरासत रही है.
4.एकता और एकजुटता-विविधता में एकता हमारी विशेषता रही है. लेकिन मेरी पीड़ा एक है, जिसे मैं आपसे नहीं कहूंगा, तो किससे कहूंगा. बोलचाल और व्यवहार में नारी का अपमान करना बंद करें. नारी के गौरव से ही देश का गौरव बढ़ता है. राष्ट्र के सपने को पूरा करने में यह हमारी सबसे बड़ी पूंजी है.
5.नागरिक का कर्तव्य-कोई भी देश तरक्की नहीं कर पाएगा, जब तक उस देश का नागरिक अपने कर्तव्य का पालन सही तरीके से नहीं कर रहा हो. पानी-बिजली पहुंचाना सरकार का काम है, लेकिन इसकी बर्बादी को रोकना नागरिक का कर्तव्य है.
भ्रष्टाचार और भाई भतीजावाद को खत्म करना होगा
प्रधानमंत्री ने कहा कि 75 साल में भ्रष्टाचार और भाई भतीजावाद ने देश को दीमक की तरह खोखला किया है. हमें इसे जड़ से खत्म करना होगा. पिछले 8 सालों में हमने भ्रष्टाचारियों पर अंकुश लगाने की कोशिश की है, लेकिन यह काम आपके सहयोग के बगैर संभव नहीं है. देश के दो लाख करोड़ रूपए को हमने भ्रष्टाचारियों के हाथ में जाने से रोका है. जो लोग बैंकों को लूट कर भाग गये, उनकी संपत्ति जब्त की जा रही है. सरकार की एक ही नीति है-जिन्होंने लूटा है, उन्हें लौटाना होगा. उन्होंने कहा कि जब मैं भाई भतीजावाद की बात करता हूं तो वह केवल राजनीति के लिए नहीं कहता, इतने सालों में हर संस्थाओं में भाई भतीजावाद का बोलबाला रहा. इसके चलते देश के टैलेंट को नुकसान हुआ, सामर्थ्य का नुकसान हुआ है. दूसरे लोगों को अवसर नहीं मिला. हमारी कोशिश होगी कि भाई भतीजावाद को जड़ से खत्म करें और हम अपने परिवार के लिए नहीं देश की भलाई के लिए काम करें. भ्रष्टाचार और भाई भतीजावाद से देश का शुद्धिकरण करना होगा. यह हमारी संवैधानिक जिम्मेवारी है. आज खेल के मैदान में भारत श्रेष्ठ प्रदर्शन कर रहा है. पहले क्यों नहीं करता था, क्योंकि चयन भाई भतीजावाद के आधार पर होता था. लेकिन आज भी कुछ लोगों की बेशर्मी देखिए, कोर्ट में सजा हो चुकी है, जेल जा चुके हैं. बावजूद उन्हें महिमामंडित किया जा रहा है. चुनौतियां बहुत हैं दोस्तों. करोड़ों संकट हैं. तो करोड़ों समाधान भी है. आप सभी पर भरोसा है.

ये भी पढ़ें- Jamshedpur : एटीएम बदलकर निकासी करने वाले गिरोह के दो सदस्य गिरफ्तार, 70 एटीएम कार्ड बरामद, अय्याशी के लिए देते थे घटना को अंजाम कई लोगों को बना चुके थे निशाना

Related Articles

Back to top button