Crime NewsJharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

टेक्स्ट मैसेज पर क्लिक कइले तो गइले…

रांची पुलिस टेक्स्ट मैसेज लिंक के जरिए ठगी के मामलों की कर रही जांच

Ranchi.  साइबर क्रिमिनल लोगों को टेक्स्ट मैसेज का लिंक भेजकर उनके बैंक अकाउंट खाली कर रहे हैं. अगर आप अननोन सोर्स से आये मेसेज पर क्लिक करते हैं आपका मोबाइल या कंप्यूटर हैक हो सकता है. इसके बाद क्रिमिनल्स मोबाइल व  कंप्यूटर की डाटा चोरी कर आपका मनी वॉलेट खाली कर सकते हैं. साइबर अपराधी टेक्स्ट मैसेज के जरिए रिमोट एडमिनिस्ट्रेशन टूल (आरएटी) के क्रिम्सन मालवेयर भेज रहे हैं. इसी टूल के जरिए लोगों के कंप्यूटर और मोबाइल को हैक किया जा रहा है. इस लिंक के जरिए कंप्यूटर व मोबाइल को बैकग्रउंड में रहकर साइबर अपराधी रिमोटली एक्सेस कर रहे. हाल के दिनों में लोगों के मोबाइल नंबर पर टेक्स्ट मैसेज भेजे जा रहे हैं, जिसमें लिखा रहता है कि आपका मोबाइल नंबर ब्लॉक हो गया है. अनब्लॉक करने के लिए दिए गए नंबर पर कॉल करें, ऐसे नंबर पर कॉल करते हुए एक लिंक भेजा जा रहा. रांची की साइबर सेल और साइबर थाने की पुलिस ऐसे आधा दर्जन से मामलों की जांच में जुटी है. लिंक भेजने वाले साइबर अपराधियों को पकड़ने का प्रयास किया जा रहा है.

ठगी के ये तरीके अपना रहे साइबर फ्रॉड

– मोबाइल नंबर या बैंक खाता ब्लॉक रहने की बात कह लिंक भेज रहे साइबर अपराधी.

advt

-कोरोना वायरस से संबंधित लिंक भेजकर मोबाइल को रिमोटली एक्सेस करने की कोशिश की जा रही है. इससे मोबाइल पर कंप्यूटर साइबर अपराधियों के कंट्रोल में आ रहा.

-कोराना वायरस से बचाव के लिए साइबर अपराधियों ने कोविड लॉक नाम की ऐप बना ली है. इस ऐप को इंस्टॉल करवा मोबाइल को रिमोटली एक्सेस किया जा रहा या मोबाइल की ऑपरेटिंग सिस्टम लॉक कर यूजर से पैसे मांगे जा रहे.

-साइबर फ्रॉड लोगों को कॉल कर बता रहे कोरोना वायरस की वजह से डिलीवरी नहीं मिलेगी. आपने ऑनलाइन साइट से जो ऑर्डर किया था उसकी एमाउंट वापस होगी. इसके लिए खाते की डिटेल्स देनी होगी. इस तरह डिटेल्स मांगे जा रहे.

बल्क मैसेजिंग ऐप से मैसेज भेजते हैं फ्रॉड

बल्क मैसेजिंग ऐप के जरिए साइबर अपराधी लोगों को मैसेज और ईमेल भेजते हैं. प्ले स्टोर पर बल्क एसएमएस के नाम से ऐप मौजूद हैं. जिन्हें इंस्टॉल करने के बाद शुल्क लेकर मैसेज का ऑप्शन दिया जाता है. उसमें सैकड़ों नंबर एक साथ इंपॉर्ट कर साइबर अपराधी मैसेज भेजते हैं. मैसेज भेजने वालों का जैसे-जैसे कॉल आता है, उनमें ठगी के शिकार होते हैं.

ऐसे बचें फ्रॉड से

-फ्रॉड द्वारा पूछे जाने पर कतई बैंक की डिटेल शेयर न करें.

-कोडेड मैसेज शेयर करने पर आप तुरंत ठगी के शिकार हो सकते हैं.

-इस तरह के फ्रॉड से बचने के लिए अपुष्ट स्रोतों से आने वाले कोडेड मैसेज को कतई फॉरवर्ड न करे, ऐसा करने से आप तुरंत ठगे जा सकते हैं, विशेष परिस्तिथि में तत्काल अपने बैंक शाखा से संपर्क कर इसकी जानकारी दे.

-इस तरह के फ्रॉड से बचने के लिए कोई भी ऑनलाइन या मैसेज से प्राप्त लिंक या नंबर को कतई फॉरवर्ड न करें ऐसा करने से आप तुरंत ठगी के शिकार हो सकते है.

क्या कहते हैं साइबर डीएसपी

डीएसपी सह साइबर थाना प्रभारी सुमित प्रसाद कहते हैं कि किसी भी प्रकार के लिंक पर क्लिक न करें. कोई खाता की डिटेल्स मांगे तो इससे बचने की जरूरत है.

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: