JharkhandLead NewsRanchi

बिल्डर से हैं परेशान तो ऑनलाइन करें कंप्लेन, हेल्पलाइन नंबर जारी

Ranchi : शहर में हर किसी का अपना घर हो इसके लिए लोग अपार्टमेंट में फ्लैट बुक करते है. कई महीनों के बाद जब अपना घर मिलता है तो लोगों को एक सुकून मिलता है. लेकिन आज भी फ्लैट के खरीदार बिल्डरों की मनमानी से परेशान है. वहीं फ्लैट की रजिस्ट्री के बाद भी आजतक उन्हें फ्लैट का हैंडओवर नहीं हो पाया. ऐसी स्थिति में वे कंपनी या बिल्डर के आफिस के चक्कर लगाकर परेशान है. ऐसे ही लोगों को राहत देने के लिए झारखंड रियल इस्टेट रेगुलेटरी आथोरिटी (झारेरा) ने अब ऑनलाइन कंप्लेन रजिस्टर्ड कराने की सुविधा शुरू की है. जिसके लिए इमेल आइडी [email protected] और 06512210170 हेल्पलाइन नंबर भी जारी कर दिया है. जिससे कि लोग घर बैठे ही कंप्लेन दर्ज करा सकते है.

इसे भी पढ़ें : जाति आधारित जनगणना को लेकर भाजपा में एकमत नहीं, आजसू पीएम से मिलने को तैयार

अवैध कंस्ट्रक्शन की दे सकते है जानकारी

सिटी में धड़ल्ले से अपार्टमेंट खड़े हो रहे है. जहां खाली जगहें थी वहां ऊंची-ऊंची इमारतों ने जगह ले ली. ऐसे में रियल इस्टेट का कारोबार करने वाले बिल्डरों को रेरा में रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य कर दिया गया है. फिर भी कई ऐसे बिल्डर है जो बिना रजिस्ट्रेशन कराए ही काम शुरू कर चुके है. ऐसे लोगों की भी जानकारी रेरा को दे सकते है. इसके बाद रेरा एक्ट के तहत उसपर कार्रवाई की जाएगी.

advt

135 प्रोजेक्ट ऑनलाइन हुए रजिस्टर्ड

रेरा ने बिल्डर और कंस्ट्रक्शन कंपनियों को प्रोजेक्ट के लिए आनलाइन रजिस्ट्रेशन की भी सुविधा दी है. इसके बाद भी लोग अपने प्रोजेक्ट का रजिस्ट्रेशन रेरा में नहीं करा रहे है. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अबतक 135 प्रोजेक्ट ही रेरा में आनलाइन रजिस्टर्ड हुए है. वहीं 589 प्रोजेक्ट आफलाइन रजिस्टर्ड है. उन्हें 30 सितंबर तक अपने प्रोजेक्ट को आनलाइन रजिस्टर कराने का निर्देश दिया गया है.

 

अपीलीय ट्रिब्यूनल का हो गया गठन

अगर बिल्डर ने आपके साथ फ्लैट की रजिस्ट्री की है और अबतक हैंडओवर नहीं किया है. या फिर बिल्डर की वजह से आपको परेशानी हो रही है तो अब टेंशन लेने की जरूरत नहीं है. इसके लिए अपीलीय ट्रिब्यूनल का गठन किया जा चुका है. जिसमें चेयरमैन जस्टिस बीबी मंगलमूर्ति, सेक्रेटरी स्वर्ण शंकर प्रसाद और ज्यूडिशियल मेंबर सज्जन कुमार दुबे बनाए गए है. प्रोजेक्ट भवन मंत्रालय कैंपस स्थित कार्यालय में जाकर अपने विवादों का निपटारा किया जा सकता है.

 

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: