JharkhandLead NewsRanchi

उत्पाद अवर निरीक्षक व उत्पाद लिपिक अगर जनजातीय भाषा में फेल हुए तो दूसरी वेतन वृद्धि रहेगी अवरूद्ध, बकाया भी नहीं मिलेगा

झारखंड उत्पाद निरीक्षक व उत्पाद लिपिक के नियुक्ति नियमावली में किया गया प्रावाधान

Ranchi : झारखंड में उत्पाद अवर निरीक्षक व उत्पाद लिपिक की नियुक्ति होने के बाद उनके वार्षिक वेतन वृद्धि में कुछ कड़ी शर्ते जोड़ दी गयी है. हालांकि पूर्व की तरह सेवा के पदाधिकारियों को सरकारी सेवक हिंदी परीक्षा नियमावली,1968 के अंतर्गत हिंदी टिप्पण एवं प्रारूपण परीक्षा में उर्त्तीण होने के बाद प्रथम वेतन वृद्धि दी जायेगी.
वहीं, केंद्रीय परीक्षा समिति द्वारा संचालित जनजातीय भाषा की परीक्षा में निम्न स्तर से उर्त्तीण होने के बाद ही दूसरी वेतन वृद्धि उन्हें मिलेगी. परीक्षा में फेल होने पर असंचयात्मक प्रभाव से कर्मियों की वेतन वृद्धि अवरूद्ध रहेगी. परीक्षा पास होने के बाद अनुमान्य वेतन वृद्धि दी जाएगी पर बकाया वेतन नहीं दिया जायेगा.

बता दें कि, पहले भी दूसरी वेतन वृद्धि के लिए जनजातीय भाषा की परीक्षा में उर्तीण होना अनिवार्य था,लेकिन इस बार के संशोधन में जनजातीय भाषा की परीक्षा फेल होने पर असंचयात्मक प्रभाव से वेतन वृद्धि को अवरूद्ध करने का प्रावधान किया गया है. बाद में परीक्षा में उर्त्तीण हुए तो उनका वेतन वृद्धि तो होगी पर बकाया वेतन नहीं मिलेगा. झारखंड उत्पाद लिपिक संवर्ग भर्ती एवं सेवा शर्त संशोधन नियमावली 2021 अधिसूचित कर दिया है. ये प्रावधान उत्पाद निरीक्षक संवर्ग सेवा शर्त नियमावली में भी किया गया है.

advt

इसे भी पढ़ें : जुगसलाई : नदी से स्नान कर लौट रहे युवक पर ईंट-पत्थर से हमला, एसएसपी से शिकायत

हिंदी टाइपिग स्पीड घटा कर 25 शब्द प्रति मिनट की

लिपिक संवर्ग की नियमावली के अनुसार उत्पाद लिपिक के पद पर नियुक्ति के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता स्नातक होगी. वहीं हिंदी टाइपिंग जहां पहले की नियमावली के अनुसार 35 शब्द प्रति मिनट थी उसे अब घटाकर हिंदी टाइपिंग में 25 शब्द प्रति मिनट तथा अंग्रेजी टाइपिंग पहले की तरह 30 शब्द प्रति मिनट की गति होगी. कंप्यूटर चलाने का ज्ञान आवश्यक होगा. टाइपिंग में अधिकतम 2 प्रतिशत अशुद्धि सहित अनिवार्य अर्हता रखी गयी है.

इसे भी पढ़ें : कपाली हासाडुंगरी में पत्थर से कूचकर महिला की हत्या

झारखंड राज्य कर्मचारी चयन आयोग लेगा परीक्षा

सीधी भर्त्ती के द्वारा भरे जाने वाले रिक्तियों की आरक्षणवार अधियाचना प्राप्त होने पर आयोग झारखंड कर्मचारी चयन आयोग परीक्षा स्नातक स्तर संचालन संशोधन नियमावली 2021 के अंतर्गत विज्ञापन प्रकाशित कर पात्र अभ्यर्थियों से आवेदन आमंत्रित कर लिखित प्रतियोगिता परीक्षा का तथा हिंदी एवं अंग्रेजी टंकण की दक्षता तथा कंप्यूटर अनुप्रयोग की दक्षता का संचालन करायेगा. टाइपिंग की परीक्षा आयोग ही लेगा. अनारक्षित वर्ग के लिए झारखंड से मैट्रिक-इंटर पास होना अनिवार्य होगा. स्थानीय रीति-रिवाज व भाषा का भी ज्ञान जरूरी किया गया है. यह शर्त आरक्षित वर्ग के लिए लागू नहीं होगा.

इसे भी पढ़ें : रिम्स में आउटसोर्स पर सैम्स एजेंसी के माध्यम से होगी बहाली, मरीजों को मिलेगी राहत

Nayika

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: