NEWS

जमीन लूट नहीं रुकी तो अंचल कार्यालयों में कर दी जायेगी तालाबंदी – बंधु तिर्की

 Ranchi :  रांची जिला के 22 अंचल कार्यालयों के समक्ष झारखंड जनधिकार मंच व आदिवासी सेना के तत्वावधान में एकदिवसीय धरना-प्रदर्शन किया गया. बता दें कि आदिवासी-मूलवासियों की जमीन की लूट के मामले लगातार सामने आ रहे हैं. इसमें अंचलाधिकारी और भू-माफिया गंठजोड़ की बात कही जा रही है.  प्रदर्शन के दौरान जिले के 22 अंचलों में मुख्यमंत्री के नाम सीओ को ज्ञापन भी सौंपा गया.

मांडर विधायक बंधु तिर्की ने किया नेतृत्व

 रातू अंचल में प्रर्दशन का नेतृत्व मांडर विधायक व पूर्व शिक्षा मंत्री बंधु तिर्की ने किया. बंधु तिर्की ने अपने संबोधन में कहा कि गैरमजरूआ भूमि पर अंचल कर्मी द्वारा भू माफिया के साथ साठगांठ कर आदिवासी-मूलवासियों की जमीन की बंदरबांट की जा रही है. आदिवासी बेघर हो रहे हैं. राज्य में जमीन की साइबर लूट हो रही है. भू- मफिया गलत तरीके से जमीन बेच रहे हैं. राज्य गठन के बाद से ही मफिया द्वारा खतियान फाड़कर पंजी-टू मे स्याही गिराकर या पंजी टू फाड़कर धड़ल्ले से गैरमजरूआ जमीन और आदिवासी जमीन की खरीद-बिक्री की जा रही है.

advt

पूरे राज्य में यह खेल चल रहा है. सरकार को पूरे मामले को गंभीरता से लेना चाहिए. उसे तत्काल रोका जाए. नहीं तो सारे अंचल कार्यालय में तालाबंदी होगी. आदिवासी की धार्मिक स्थल जतरा स्थल पहनाई जमीन का गलत तरीके से स्थानांतरण किया जा रहा है.

बेड़ो में प्रदर्शन करते मजदूर. 

म्यूटेशन एक्ट 2020 का भी हुआ जोरदार विरोध

 आदिवासी सेना अध्यक्ष शिवा कच्छप ने शहर अंचल में धरना को संबोधित किया. कहा कि पूरे राज्य में जमीन की लूट मची हुई है. गरीब रैयत लूटे जा रहे हैं. अंचलाधिकारी, अंचल कर्मी और भू माफिया के गंठजोड़ से  आदिवासी की जमीन की लूट हो रही है. कुलदीप तिर्की ने कहा कि सरकार इसकी चिंता नहीं करे. नहीं तो राज्य मे आदिवासी-मूलवासी एक साजिश के तहत खत्म हो जायेंगे.

adv

आदिवासी अपनी ही जमीन से उजाड़े दिये जायेंगे. आम लोग भी अपनी संस्कृति, जमीन, भाषा,परंपरा को बचाने के लिए आगे आयें. झारखंड लैंड म्यूटेशन एक्ट 2020 बिल का जोरदार विरोध किया गया. कहा कि यह कानून आदिवासी मूलवासी व गरीब जनता के लिए काला कानून होगा. इस कानून से आदिवासी जमीन की लूट का रास्ता खुलेगा.

अरगोड़ा अंचल के समक्ष भी प्रर्दशन किये गये. इस प्रर्दशन में आदिवासी मूलवासी की जमीन लूट के खिलाफ एक निर्णायक लड़ाई लड़ने के लिए चरणबद्ध आंदोलन के शुरुआत की घोषणा हुई. भ्रष्ट अंचल पदाधिकारी अंचल कर्मी व भू-माफिया को कड़ी चेतावनी दी गयी. ताकि वे आदिवासी मूलवासी की जमीन को लूटना बंद करें. और जमीन के रैयतों को इंसाफ मिल सके. इसके लिए जिले के सभी अंचल कार्यालय के समक्ष घेराव व प्रदर्शन किया गया.

इन संगठनों ने लिया प्रदर्शन में हिस्सा

पोखरटोली, हिनू में प्रदर्शन करते ग्रामीण.

इस प्रदर्शन को सफल बनाने में विभिन्न संगठनों ने अपना भरपूर योगदान दिया. खासकर झारखंड जनाधिकार मंच, आदिवासी सेना, सीएनटी एक्ट एसपीटी एक्ट बचाओ मोर्चा, एचईसी हटिया विस्थापित परिवार राजी पाड़हा सरना प्रार्थना सभा रांची महानगर, सरना समिति पोखर टोली हुंडरू एवं विभिन्न संगठनों ने प्रदर्शन किया.

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button