Lead NewsNEWSRanchi

रिमाइंडर मिलने के एक हफ्ते के भीतर नहीं भरा जुर्माना, तो हो सकती है जेल

RANCHI: राजधानी में ट्रैफिक चालान मिलने के बावजूद जुर्माना नहीं भरने वाले लोग मुसीबत में फंस सकते हैं. रांची ट्रैफिक पुलिस मोबाइल नंबर पर एसएसएस के जरिये अब सिर्फ एक बार ही रिमाइंडर भेजेगी. रिमाइंडर भेजने के बाद भी जुर्माने की राशि जमा नहीं करने पर अभियोजन की कार्रवाई के लिए रांची ट्रैफिक एसपी की ओर से कोर्ट को रिकॉर्ड भेज दिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें : बीच शहर में बना दिया डंपिंग यार्ड, सांस लेना भी हुआ मुश्किल

रांची ट्रैफिक एसपी अंजनी अंजन ने बताया कि जिन्होंने अब तक जुर्माना नहीं भरा है, रिमाइंडर मिलने के एक सप्ताह के भीतर जुर्माना भर दें. ट्रैफिक एसपी के अनुसार 2020 के अप्रैल माह से लेकर अब तक 25 करोड़ से ज्यादा का चालान काटा गया. जिसमें करीब 50 प्रतिशत लोगों ने जुर्माना भरा है और आधे से ज्यादा लोगों ने अब तक जुर्माना नहीं भरा है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें : बिहार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री जमा खान ने कहा, राजपूत थे हमारे पूर्वज

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

अगर आपने चालान मिलने के बावजूद समय पर जमा नहीं किया तो आपका चालान कोर्ट चला जाएगा. इसके बाद वाहन स्वामी को कोर्ट में जाकर ही जुर्माना जमा करना पड़ेगा. इसपर अनदेखी से कोर्ट से समन भी जारी हो सकता है. समन करने पर भी अगर आप कोर्ट में हाजिर नहीं होते हैं, तो आपके खिलाफ गैरजमानती वारंट भी जारी हो सकता है, साथ ही कोर्ट पुलिस को संबंधित व्यक्ति को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश करने का आदेश भी दे सकती है. ऐसी स्थिति में आपको भारी जुर्माने के साथ ही जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है.

आरएलवीडी (रेड लाइट वॉयलेशन डिटेक्शन) और एएनपीआर (ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रीकोगनिशन) कैमरे के जरिए रांची में वाहनों का चालान कट रहा है. चालान कटने के बाद ट्रैफिक पुलिस की पोर्टल पर अपलोड हो जाता है जबकि चालान पते पर भेजा जाता है. इन चालान को कई लोग अनदेखा कर रहे हैं. इसके अलावा बिना हेलमेट, सीट बेल्ट, पीलियन राइडर, बिना लाइसेंस जैसे नियम तोड़ने पर पुलिस एफटीवीआर के जरिए चालान काटती है. इसमें ऑनस्पॉट जुर्माना जमा किया जा सकता है. जबकि पते पर भी चालान भेजा जाता है.

Related Articles

Back to top button