JharkhandLead NewsRanchi

मनरेगा का काम समय पर नहीं होगा तो देना होगा स्पष्टीकरण

  • श्रमिकों के दर्द को समझें अधिकारी, ग्रामीणों के रोजगार सृजन का साधन बनें : मनीष रंजन
  • मनरेगा के सफल क्रियान्वयन को लेकर ग्रामीण विकास सचिव मनीष रंजन ने की राज्य के सभी उप विकास आयुक्तों के साथ वर्चुअल बैठक

Ranchi : ग्रामीण विकास सचिव मनीष रंजन ने मनरेगा कार्य के सफल क्रियान्वयन को लेकर राज्य के सभी उप विकास आयुक्तों के साथ वर्चुअल बैठक की. बैठक में ग्रामीण विकास सचिव ने सबसे पहले राज्य के विभिन्न जिलों में संचालित हो रहे मनरेगा कार्य की जानकारी ली एवं लक्ष्य के अनरूप कार्य नहीं होने पर कड़ी नाराजगी जतायी.

सचिव मनीष रंजन ने कहा कि मनरेगा योजना नहीं है बल्कि यह ग्रामीणों के रोजगार का सृजन का सशक्त माध्यम है. उन्होंने कहा कि कोरोना जैसी विकट परिस्थिति में ग्रामीणों के लिए मनरेगा ही उम्मीद है.

ऐसे में कार्य में थोड़ी सी भी लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी. उन्होंने मजदूरों के दर्द को समझने एवं ससमय लक्ष्य को पूरा करने का निर्देश दिया. इस दौरान उन्होंने सभी उप विकास आयुक्तों को मनरेगा कार्य की पूरी तरह से निगरानी करते हुए मनरेगा से संचालित योजनाओं को धरातल पर उतारने का निर्देश दिया.

advt

बैठक में मनरेगा से संचालित योजनाओं को लेकर अन्य कई महत्वपूर्ण निर्देश उप विकास आयुक्तों को दिये. बैठक में शामिल मनरेगा आयुक्त वरुण रंजन ने स्पष्ट कहा कि दिये गये लक्ष्य को समय पर पूरा नहीं किया गया तो अधिकारियों से सीधा स्पष्टीकरण पूछा जायेगा.

इसे भी पढ़ें :कश्मीर में लव जिहाद पर सिख समाज में उबाल, विरोध में श्रीनगर से दिल्ली तक हुआ बवाल

adv

रिजेक्टेड ट्रांजेक्शन में अविलंब सुधार हो

सचिव मनीष रंजन ने रिजेक्टेड ट्रांजेक्शन की समीक्षा की एवं मनरेगा के तहत संचालित योजनाओं में काम करनेवाले श्रमिकों के रिजेक्टेड ट्रांजेक्शन के कारण होनेवाली परेशानी को समझने एवं उनके प्रति संवेदनशील होते हुए अविलंब सुधार करवाने का निर्देश दिया. उन्होंने एक सप्ताह के अंदर रिजेक्टड ट्रांजेक्शन में सुधार लाने एवं मजदूरों को राहत देने की बात कही.

दीदी बगिया के कार्य में तेजी लाने एवं नर्सरी तैयार करने का दिया निर्देश

मनरेगा कार्य की समीक्षा के दौरान सभी उप विकास आयुक्तों को दीदी बगिया के कार्य में तेजी लाते हुए नर्सरी तैयार करने को लेकर निर्देशित किया. उन्होंने कहा कि दीदी बगिया का उदेश्य महिलाओं को स्वावलंबन की राह पर ले जाना है.

महिलाएं आर्थिक रूप से मजबूत हो सकती हैं. साथ ही योजना के माध्यम से दीदियों को एवं महिला स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें :झारखंड में गुटखा-पान मसाला पर प्रतिबंध के बावजूद धड़ल्ले से हो रही बिक्री

लंबित योजनाओं को कार्य योजना बना कर ससमय करें पूर्ण

मनरेगा कार्य की समीक्षा के दौरान वित्तीय वर्ष 2019-20 की योजनाओं की भी समीक्षा की गयी एवं लंबित योजनाओं की जानकारी लेते हुए कार्य योजना बना कर सभी उप विकास आयुक्तों को अविलंब पूर्ण करने का निर्देश दिया गया. इस दौरान राज्य में सबसे खराब स्थिति में रहनेवाले जिलों के पदाधिकारियों से स्पष्टीकरण लिया.

एक सप्ताह के अंदर सुधार करने की कही बात

मनरेगा कार्यों की समीक्षा के दौरान सचिव के द्वारा जीआइएस बेस्ड प्लांनिग एवं जीओ टैगिंग की भी समीक्षा की गयी एवं एक सप्ताह के अंदर सुधार करने का निर्देश दिया गया.

30 जून तक बिरसा हरित ग्राम के तहत गड्ढा खुदाई का कार्य पूर्ण करें : मनरेगा आयुक्त

समीक्षा बैठक में मनरेगा आयुक्त वरुण रंजन ने सभी उप विकास आयुक्तों को निर्देश दिया कि 30 जून तक बिरसा हरित ग्राम के तहत गड्ढा की खुदाई का कार्य पूर्ण करें एवं बिरसा हरित ग्राम के तहत जो भी लक्ष्य मिले हैं उन्हें ससमय पूरा करना सुनिश्चित करें.

इसे भी पढ़ें :बड़ी खबर : झारखंड में कोरोना की तीसरी लहर में 7 लाख 17 हजार बच्चे हो सकते हैं संक्रमित, इम्पॉवर्ड कमेटी ने सौंपी सरकार को रिपोर्ट

वर्चुअल बैठक में ये थे शामिल

मनरेगा योजना की प्रगति की समीक्षात्मक बैठक को लेकर ग्रामीण विकास विभाग सचिव मनीष रंजन की अध्यक्षता में राज्य के तमाम उप विकास आयुक्त संग संपन्न वीडियो कांफ्रेंसिंग में मनरेगा आयुक्त वरुण रंजन व अन्य शामिल थे.

इसे भी पढ़ें :बिहार : पंचायत चुनाव की तैयारी ने पकड़ी रफ्तार, मतदान के अगले दिन परिणाम

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: