National

#Gandhi जिंदा होते तो कश्मीर से #Article370 हटाये जाने के विरोध में निकालते मार्च  : दिग्विजय सिंह   

Indore : गांधी जिंदा होते तो कश्मीर से Article 370 हटाये जाने के फैसले के खिलाफ मार्च निकालते. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने यह बात कही.   दिग्विजय सिंह ने कहा कि पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कश्मीरियत, जम्हूरियत और इन्सानियत के जरिए जम्मू-कश्मीर मुद्दे के हल करने का सिद्धांत खत्म कर दिया.

इसी क्रम में कहा कि अगर महात्मा गांधी आज जिंदा होते तो जिस दिन Article 370 हटाया गया, उस दिन वे दिल्ली में लाल किले से श्रीनगर में लाल चौक तक की यात्रा का ऐलान कर देते.  दिग्विजय सिंह  महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में बुधवार को बोल रहे थे.

इसे भी पढ़ें : 67 साल में देश पर कर्ज 54.90 लाख करोड़, मोदी सरकार में 34.90 लाख करोड़ बढ़कर हुआ 89.80 लाख करोड़

advt

हिंसा को पनपाने वाले लोगों को महिमामंडित किया जा रहा है

दिग्विजय सिंह ने अपने भाषण में कहा, भारत एक धार्मिक देश है. महात्मा गांधी इस देश की सनातनी संस्कृति में निहित सत्य, अहिंसा, प्रेम और सद्भाव के संदेशों को अच्छी तरह समझते थे. कहा कि देश के वर्तमान हालात में सनातनी परंपरा वाले धर्म के साथ गांधी, भगवान महावीर और गौतम बुद्ध की अहिंसा की विचारधाराएं संकट में हैं, क्योंकि हिंसा को पनपाने वाले लोगों को महिमामंडित किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें :  हाई अलर्ट पर देश की राजधानी #Delhi, हमला करने की फिराक में घुसे 3-4 आतंकी

पाकिस्तान में बहुसंख्यकों का सांप्रदायिकरण हुआ है

दिग्विजय सिंह ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74वें सत्र में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान का हालिया भाषण सुना होगा जिसमें वह इस्लामोफोबिया और इस्लामी चरमपंथ की बात कर रहे थे. इसके विरोध में रेडिकलाइजेशन ऑफ द हिंदूज (हिंदुओं का चरमपंथीकरण) की बात की जा रही है और रेडिकलाइजेशन ऑफ द हिंदूज भी उतना ही खतरनाक है, जितना खतरनाक रेडिकलाइजेशन ऑफ द मुस्लिम्स (मुस्लिमों का चरमपंथीकरण) है.

उन्होंने कहा, पाकिस्तान में बहुसंख्यकों का सांप्रदायिकरण हुआ है और वहां के हालात आप देख ही रहे हैं. इसी तरह अगर भारत में बहुसंख्यकों का सांप्रदायिकरण होगा, तो इसके दुष्परिणामों से हमारे देश को बचाना आसान नहीं होगा. दिग्विजय ने कहा, जवाहरलाल नेहरू ने कहा था किअल्पसंख्यकों की सांप्रदायिकता के मुकाबले बहुसंख्यकों की सांप्रदायिकता ज्यादा खतरनाक होती है.

adv

उन्होंने कहा, सांप्रदायिकता का भूत जब तक बोतल में बंद है, बंद है. लेकिन इसके एक बार बाहर निकलने के बाद इसे दोबारा बोतल में डालना आसान नहीं है. उधर, भाजपा ने दिग्विजय के बयान पर कड़ी आपत्ति जतायी है. प्रदेश भाजपा प्रवक्ता उमेश शर्मा ने कहा, भगोड़े इस्लामी प्रचारक जाकिर नाइक की भाषा बोलते हुए दिग्विजय हिंदुओं के खिलाफ सांप्रदायिक विषवमन कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : देखें वीडियोः शशिभूषण मेहता के #BJPमें शामिल होने पर बीजेपी कार्यालय में जमकर मारपीट, वीडियो वायरल

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button