Bihar

माता-पिता की सेवा नहीं की, तो होगी जेल की सजा, बिहार कैबिनेट का फैसला   

विज्ञापन

Patna :  बिहार में रहने वाली संतान अगर अपने माता-पिता की सेवा नहीं करेगी तो उनको जेल जाना पड़ सकता है. खबरों के अनुसार  बिहार कैबिनेट ने मंगलवार को हुई बैठक में फैसला लिया कि बिहार के लोग अगर मां-पिता की सेवा नहीं करेंगे तो उनको जेल की सजा होगी.  बता दें कि माता-पिता की शिकायत मिलते ही ऐसी संतान पर कार्रवाई होगी. मंगलवार को कैबिनेट की बैठक में यह फैसला लिया गया है.

मंगलवार को बिहार कैबिनेट की हुई बैठक में  कई प्रस्तावों पर मुहर लगायी गयी है. बैठक में कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादी घटनाओं में शहीद बिहारी जवानों के आश्रितों को बिहार सरकार ने नौकरी देने का फैसला लिया है.  जिसके तहत भागलपुर के  शहीद रतन कुमार ठाकुर और बेगूसराय के पिंटू कुमार सिंह के आश्रितों को नौकरी दी जायेगी.

इसे भी पढ़ेंः ऑर्किड अस्पतालः मलेरिया था नहीं चला दी दवा, विभाग ने CS से कहा कार्रवाई हो, छह माह बाद भी नहीं हुई

advt

 मुख्यमंत्री वृद्धा पेंशन योजना को राइट टू सर्विस एक्ट में जगह

कैबिनेट  ने मुख्यमंत्री वृद्धा पेंशन योजना को राइट टू सर्विस एक्ट में जगह दी है. इस क्रम में गुणवत्ता पूर्ण बीज के लिए 76.56 करोड़ रुपये स्वीकृत किये गये. सुपौल में हाइड्रो पावर का एक्सटेंशन स्टेशन बनेगा. वहां 130 मेगावाट का उत्पादन होगा.  डागमरा जल विद्युत परियोजना का एक्सटेंशन के लिए कुल 11.68 करोड़ स्वीकृत किये गये.

राज्य खाद्य आयोग के सदस्यों के आवास भत्ता में संशोधन कर आवास भत्ता में वृद्धि की गयी. भागलपुर में गंगा नदी पर विक्रमशिला सेतु के समानांतर पुलनिर्माण होगा. नया ब्रिज चार लेन बनेगा.  चार करोड़ की लागत से पुल बनेगा. इसके अलावा बिहार नगर तथा निवेशन सेवा नियमावली 2019 को  स्वीकृति दी गयी.

इसे भी पढ़ेंः क्या हिंदुत्ववादियों का भारतीय मुसलमानों को लेकर फैलाया गया झूठ हक़ीक़त में बदल सकता है

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close