JharkhandLead NewsRanchi

कैंसर का समय से पता चल जाये तो इलाज संभव

Ranchi : अक्टूबर का महीना ब्रेस्ट कैंसर अवेयरनेस महीना के रूप में जाना जाता है. इस बीमारी का समय से पता चल जाये तो मरीज पूरी तरह से ठीक हो सकता है. ये बातें आइएमए में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान डॉक्टरों ने कहीं. उन्होंने कहा कि महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर आम हो गया है. लेकिन इसकी पहचान बहुत आसानी से की जा सकती है. महिलाएं सामने चर्चा करने में भी असहज महसूस करती हैं. इस चक्कर में बीमारी बढ़ जाती है और लास्ट स्टेज में पहुंच जाती है. ऐसे लोगों को जागरूक करने के लिए रिंची ट्रस्ट हॉस्पिटल कांफ्रेंस का आयोजन कर रहा है.

जिसमें टाटा कैंसर हॉस्पिटल कोलकाता के एक्सपर्ट्स अपने अनुभव साझा करेंगे. इसके अलावा हॉस्पिटल की ओर से एक ग्रुप बनाया जा रहा है जिसे जीविशा (जीने की आशा) का नाम दिया है.

इसे भी पढ़ें :झारखंड: 4684 करोड़ खर्च करने की मिली स्वीकृति

advt

जिसका उद्देश्य है कि ब्रेस्ट कैंसर बीमारी से लड़ रही महिलाएं और उनके परिवार का उत्साह बढ़ाना है. मौके पर आइएमए के डॉ शंभु, डॉ सुधीर, डॉ अजीत, डॉ जयशंकर और डॉ नम्रता मनसरिया मौजूद थीं.

डॉ नम्रता ने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत इस हॉस्पिटल में सभी तरह के कैंसर का इलाज निशुल्क किया जाता है. साथ ही कैंसर के इलाज के साथ-साथ साइकियाट्रिस्ट काउंसेलिंग भी करते हैं. साथ ही कहा कि यह सीएमई दुनिया में ब्रेस्ट कैंसर सर्जरी और कीमोथेरेपी पर ध्यान केंद्रित होगा.

adv

वहीं झारखंड में ब्रेस्ट कैंसर के इलाज में किस तरह से परेशानियों को दूर किया जा सकता है इस पर चर्चा की जायेगी. झारखंड में ज्यादातर मरीज एडवांस स्टेज में Stage-III या Stage-IV में इलाज के लिए पहुंचते हैं.

इसे भी पढ़ें :IAF का एयरबस से 22,000 करोड़ का करार, जानें किस औद्योगिक घराने को मिली C-295 एयरक्राफ्ट्स बनाने की डील

पैनल में ये रहेंगे मौजूद

डॉ अनूप कुमार, डॉ रोहित झा, डॉ आफताब अंसारी, डॉ नम्रता मनसरिया.

इसे भी पढ़ें :James Bond Series की नो टाइम टू डाई की रिलीज से पहले डेनियल क्रेग रॉयल नेवी में मानद कमांडर नियुक्त

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: