JamshedpurJharkhandNEWS

स्कूलों में बच्चों का 15 जनवरी तक शत-प्रतिशत टीकाकरण नहीं हुआ, तो रुकेगा वेतन

कड़ाई

  • 15-18 साल के बच्चों के टीकाकरण के मामले में एसडीएम का आदेश
  • सभी प्रधानाध्यापक दो-दो सहायक शिक्षकों को करेंगे नामित व प्राधिकृत

Jamshedpur :  धालभूम के अनुमंडल पदाधिकारी सह वैक्सीनेशन कोषांग के वरीय प्रभारी ने पत्र जारी कर कहा है कि अगर 15 जनवरी तक यदि 15 से 18 साल के बच्चों का शत-प्रतिशत टीकाकरण नहीं हुआ, तो संबंधित प्राचार्य या प्रधानाध्यापक, सहायक शिक्षक और संकुल साधनसेवी को जनवरी का वेतन नहीं मिलेगा.पत्र में कहा गया है कि सभी प्राचार्य, प्रधानाध्यापक, प्रभारी प्रधानाध्यापक को बीडीओ द्वारा उपलब्ध कराये गये वैक्सीनेशन शिड्यूल के अनुसार समन्वय बनाकर शत-प्रतिशत टीकाकरण कराना है. टीकाकरण सुबह नौ से चार बजे तक होगा. हालांकि, यह ध्यान रखना है कि वैक्सीन लेने वाले बच्चे खाली पेट नहीं आयें और उन्हें तीन दिन पहले बुखार नहीं हुआ हो. सभी प्रभारी प्रधानाध्यापक अपने-अपने स्कूल के दो-दो सक्रिय शिक्षकों को नामित व प्राधिकृत करते हुए टीकाकरण कार्य पूरा करेंगे. पत्र के अनुसार सभी कोटि के प्रधानाध्यापक अपने-अपने स्कूल में कार्यरत सहायक शिक्षकों को टोलावार बच्चों एवं अभिभावकों को टीकाकरण के प्रचार-प्रसार के लिए अपने स्तर से प्राधिकृत करेंगे. बीडीओ द्वारा जिस स्कूल को टीकाकरण केंद्र घोषित किया जायेगा, उस स्कूल के संकुल साधनसेवी संबंधित टीकाकरण केंद्र के नोडल पदाधिकारी होंगे. सुचारू टीकाकरण उनकी जवाबदेही होगी. इसके लिए वे विद्यालय के प्रभारी, सहायक शिक्षक एवं विद्यालय प्रबंधन समिति के सदस्यों का सहयोग लेंगे.

Chanakya IAS
SIP abacus
Catalyst IAS

इसे भी पढ़ें – जंगल छोड़कर शहर के पॉश इलाके में नक्सलियों ने ले रखा है पनाह, पुलिस की सिरदर्दी बढ़ी

The Royal’s
Sanjeevani
MDLM

शत-प्रतिशत टीकाकरण का प्रमाण पत्र देना होगा

टीकाकरण पूरा होने के बाद संकुल साधन सेवी सह नोडल पदाधिकारी संबंधित केंद्र के प्रधानाध्यापक से शत-प्रतिशत टीकाकरण होने का प्रमाण पत्र लेंगे. निजी स्कूलों के सभी प्राचार्य यह प्रमाण पत्र देंगे कि स्कूल में नामांकित व अध्ययनरत सभी 15 से 18 साल के छात्र-छात्राओं को वैक्सीन लगा दी गयी है. इस कार्यक्रम में जिला शिक्षा पदाधिकारी और जिला शिक्षा अधीक्षक सभी निर्देशों के अनुपालन पर निगरानी रखेंगे और कर्मचारियों के बीच समन्वय बनायेंगे. वे सभी प्राचार्य से टीकाकरण संबंधी प्रमाण पत्र प्राप्त करने के उपरांत सत्यापित कर वैक्सीनेशन कोषांग को उपलब्ध करायेंगे.

संकुल साधन सेवी होंगे नोडल पदाधिकारी

संकुल साधनसेवी संकुल के अंतर्गत पड़ने वाले सभी टीकाकरण केंद्रों के नोड्ल पदाधिकारी होंगे. इन नोडल पदाधिकारियों की जवाबदेही होगी कि वे टीकाकरण केंद्रों पर भीड़ नहीं लगने देंगे. वे टीका लेने वाले बच्चों को कक्षा में प्रोटोकॉल के तहत बैठाना सुनिश्चित करेंगे. वैसे अभिभावक जिन्हें वैक्सीन का दूसरा डोज नहीं लगा हो, वे भी अपने बच्चों के साथ टीका लगवा सकेंगे.

इसे भी पढ़ें – आदित्यपुर के डिप्टी मेयर को धमकी देने वाला आशीष नेपाल बॉर्डर से गिरफ्तार

Related Articles

Back to top button