Corona_UpdatesLead NewsNationalTOP SLIDER

ICMR के डायरेक्टर बोले, जिन जिलों में संक्रमण 10% से अधिक वहां 6 से 8 सप्ताह लॉकडाउन जरूरी

310 जिलों में ये दर 21% है या उससे भी अधिक है

New Delhi : भारत इस समय कोरोना की दूसरी लहर के बुरी तरह जूझ रहा है. ऐसे में सभी राज्य इसको लेकर अलग-अलग रणनीतियां अपना रहे हैं. देश के कई जिलों और राज्यों में लॉकडाउन की स्थिति है. इस बीच आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद् (आईसीएमआर) के महानिदेशक डॉ.

बलराम भार्गव ने सलाह दी है कि जिन भी जिलों में कोरोना संक्रमण की दर 10% से अधिक है उन्हें 6 से 8 सप्ताह के लिए लॉकडाउन लगाने की जरूरत है.

advt

भार्गव ने मंगलवार को एक संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि देश में कोरोना संक्रमण की दर 21% है. 734 में से 310 जिलों में ये दर, देश में कोरोना संक्रमण की दर के या तो बराबर है या उससे ज्यादा है.

इसे भी पढें :रांची विवि छह कॉलेजों के बीएससी नर्सिंग का रिजल्ट निकाला, अस्पतालों को मिल सकेंगे 157 नर्स 

ज्यादा संक्रमित हो रहे युवा

यह पूछे जाने पर कि क्या युवा आवादी ज्यादा प्रभावित हो रही है, आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ. बलराम भार्गव ने कहा कि कोविड-19 की पहली और दूसरी लहर के आंकड़ों की तुलना यह दिखाती है कि उम्र का ज्यादा अंतर नहीं है.

उन्होंने कहा कि 40 साल से ज्यादा उम्र के लोग प्रतिकूल प्रभावों के लिहाज से ज्यादा संवेदनशील हैं.
डॉ. बलराम भार्गव ने कहा कि हमने पाया है कि युवा लोग थोड़े ज्यादा संक्रमित हो रहे हैं क्योंकि वे बाहर गए और देश में कोरोना वायरस के कुछ पहले से मौजूद स्वरूप भी हैं, जो उन्हें प्रभावित कर रहे हैं. भारत कोरोना वायरस संक्रमण की विकराल दूसरी लहर का सामना कर रहा है. हर दिन करीब औसतन चार लाख मामले सामने आ रहे हैं.

इसे भी पढें :अस्पतालों के मनमाने रवैये पर अंकुश जरूरी

16 राज्यों में बढ़ रहे हैं मामले

सरकार ने मंगलवार को कहा कि देश में कोविड-19 के दैनिक मामलों और मौत के आंकड़ों में शुरुआती कमी देखी जा रही है, हालांकि कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, ओडिशा और पंजाब उन 16 राज्यों में शामिल हैं जहां दैनिक मामलों में लगातार बढ़ोतरी अब भी नजर आ रही है.

सरकार के मुताबिक महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, राजस्थान, छत्तीसगढ़, बिहार, गुजरात, मध्य प्रदेश और तेलंगाना उन 18 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में शामिल हैं, जहां कोविड-19 संक्रमण के दैनिक मामलों में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है.

इसे भी पढें :गोवा के सरकारी अस्पताल में आक्सीजन की कमी, 26 कोरोना संक्रमितों की मौत

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: