न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बॉल टेंपरिंग के लिए ICC ने कड़ी की सजा, छह टेस्ट या 12 वनडे के लिए हो सकते हैं बैन

गेंद से छेड़छाड़ पर अब छह टेस्ट या 12 वनडे तक का प्रतिबंध लग सकता है

477

Dubai : बॉल टेंपरिंग पर अब छह टेस्ट या 12 वनडे तक का प्रतिबंध लग सकता है क्योंकि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने इसे लेवल तीन का अपराध बना दिया है और मैदान पर बेहतर बर्ताव सुनिश्चित करने के लिए इस सूची में अभद्रता और निजी दुर्व्यवहार को भी शामिल किया है.डबलिन में वार्षिक सम्मेलन के अंत में वैश्विक संस्था ने मैदान पर अनुचित व्यवहार पर लगाम कसने की अपनी योजना भी पेश की. गौरतलब है कि इस साल मार्च में केपटाउन में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट के दौरान आस्ट्रेलिया के क्रिकेटरों स्टीव स्मिथ , डेविड वार्नर और कैमरन बेनक्राफ्ट गेंद की स्थिति बदलने के दोषी पाए गए थे जिसके बाद गेंद से छेड़छाड़ को लेवल दो से तीन का अपराध बनाया गया.

इसे भी पढ़ें- कौन बचा रहा है छह पुलिसकर्मियों की मौत के जवाबदेह अफसरों को

स्मिथ पर एक टेस्ट मैच में प्रतिबंध के बाद कड़ी सजा की उठी थी मांग

आईसीसी चेयरमैन शशांक मनोहर ने कहा कि मैं और मेरे साथी बोर्ड निदेशक खेल के बेहतर बर्ताव के लिए क्रिकेट समिति और मुख्य कार्यकारियों की समिति के सिफारिशों का समर्थन करने को लेकर सर्वसम्मत थे. उन्होंने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि खिलाड़ियों और प्रशासकों रोकने के लिए कोई मजबूत कड़े नियम हो जिससे कि सुनिश्चित हो कि हमारे खेल में आचरण को लेकर शीर्ष स्तर हो. मार्च के दौरान लागू आचार संहिता के तहत आईसीसी ने स्मिथ पर एक टेस्ट का प्रतिबंध लगाया जिसके बाद कड़ी सजा की मांग उठने लगी. यहां तक कि पिछले महीने श्रीलंका के कप्तान दिनेश चांदीमल को सेंट लूसिया में वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे टेस्ट के दौरान गेंद से छेड़छाड़ के लिए एक टेस्ट के लिए प्रतिबंधित किया था. तत्कालीन कप्तान स्मिथ को आईसीसी से कड़ी सजा नहीं मिली लेकिन आस्ट्रेलिया ने पूरे देश को झकझोरने वाले इस प्रकरण के लिए स्मिथ और वार्नर को एक – एक साल के लिए प्रतिबंधित किया जबकि बेनक्राफ्ट पर नौ महीने की रोक लगाई.

इसे भी पढ़ें-  बारिश ने धो डाला ‘विकास’ का मेकअप, राजधानी की सड़कों पर पुता कीचड़, हुआ जलजमाव

फैसने के खिलाफ अपील के लिए खिलाड़ी को जमा करानी होगी फीस

आईसीसी बोर्ड ने निजी दुर्व्यवहार (लेवल दो , तीन), सुनाई दी गई अभद्रता (लेवल एक) और अंपायर के निर्देशों का पालन नहीं करने (लेवल एक) को भी अपराधों की सूची में शामिल करने की सिफारिश की है. आईसीसी के बयान के अनुसार अगर खिलाड़ी या सहायक स्टाफ फैसले के खिलाफ अपील करना चाहता है तो उसे अपील फीस अग्रिम में जमा करानी होगी और अपील सफल होने पर पूरी लौटा दी जाएगी. स्टंप माइक्रोफोन से जुड़े निर्देशों में भी बदलाव किया गया है जिससे किसी भी समय स्टंप माइक्रोफोन के आडियो का प्रसारण करने की स्वीकृति होगी , गेंद के डेड होने के बाद भी. यहां तक कि अब संबंधित बोर्ड को भी उसके खिलाड़ियों के बर्ताव के लिए जवाबदेह बनाया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें- हज यात्रियों के प्रति ठीक नहीं है रघुवर सरकार की नीयत, सबका साथ सबका विकास खोखला नारा : कांग्रेस

आईसीसी प्रबंधन अब जिंबाब्वे क्रिकेट के साथ मिलकर करेगा काम 

आईसीसी प्रबंधन अब जिंबाब्वे क्रिकेट के साथ मिलकर काम करेगा जिससे कि उसके क्रिकेट, प्रबंधन और वित्तीय ढांचे के प्रबंधन के लिए योजना तैयार की जा सके जिसकी नियमित रूप से समीक्षा होगी. आईसीसी साथ ही श्रीलंका के खेल मंत्री के प्रतिनिधि को अपने बोर्ड और पूर्ण परिषद में पर्यवेक्षक के रूप में बैठने की स्वीकृति देने को भी राजी हो गया. आईसीसी ने हालांकि श्रीलंका क्रिकेट के चुनाव छह महीने के भीतर कराने को कहा है और ऐसा नहीं होने की स्थिति में एसएलसी की सदस्यता पर विचार किया जाएगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: