न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ICAS ऑफिसर जितेंद्र झा की मिली डेडबॉडी, पत्नी बोली ईमानदार छवि और चार साल में छह बार ट्रांसफर बनी मौत की वजह

46

New Delhi: 3 दिन पहले मॉर्निंग वाक  के दौरान दिल्ली के द्वारका इलाके से लापता  इंडियन सिविल अकाउंट्स सर्विस (आईसीएएस) के सीनियर ऑफिसर जितेंद्र कुमार झा की डेडबॉडी मिली है. जितेंद्र झा का शव पुलिस ने दिल्ली के पालम विहार रेलवे ट्रैक से बरामद किया है. दरअसल जितेंद्र हर दिन की तरह सोमवार को भी मॉर्निंग वॉक पर निकले थे और लापता हो गये थे. काफी खोज के बाद भी पुलिस उनका पता नहीं लगा पायी थी. नई दिल्ली पुलिस के डिस्ट्रिक्ट पुलिस डिप्टी कमिश्नर ने छह टीमों का गठन कर झा की तलाश शुरू की थी. हालांकि प्रशासनिक महकमे में आईएएस का शव बरामद होने के बाद से हड़कंप मचा हुआ है. वहीं अब सवाल यह भी उठ रहा है कि देश में ईमानदारी को बढ़ावा और भष्टाचार को खत्म करने का दावा करने वाली सरकार के राज में एक ईमानदार अफसर की यही कद्र है कि ईनाम में उसे चार सालों में छह बार ट्रांसपर किया जाता है और मानसिक रूप से उसे दवाब में रखा जाता है.  

इसे भी पढ़ें – बकोरिया कांड की जांच में तेजी आते ही बदल दिए गए सीआईडी एडीजी एमवी राव 

बार-बार ट्रांसफर से दवाब में थे पति – जितेंद्र की पत्नी 

hosp1

 जितेंद्र कुमार झा मूल रूप से बिहार के सुपौल जिले के रहने वाले हैं और उनके लापता होने के बाद से लगातार दिल्ली पुलिस और जितेंद्र के परिजनों के रिक्वेस्ट के बाद बिहार में भी खोज की गयी थी. वहीं अफसर की पत्नी ने किडनैपिंग की भी आशंका जतायी थी. लेकिन इंडियन सिविल अकाउंट्स सर्विस (आईसीएएस) के सीनियर ऑफिसर का शव बरामद होते ही पत्नी भावना झा ने सरकार पर कई तरह के आरोप लगाये हैं. भावना ने आरोप लगाया है कि सरकार ने एचआरडी मिनिस्ट्री में तैनाती से पहले चार साल में उनका छह बार ट्रांसफर किया था. यही वजह रही की उनके पति काफी दवाब में रहते थे. इससे आगे भावना ने यह भी कहा कि उनके पति की ईमानदार छवि की वजह से ही उनका हर बार तबादला कर दिया जाता था और जिस भी मिनिस्ट्री में उनकी तैनाती होती थी तो उससे संबंधित विभाग के अफसर और मंत्री भी उनसे डरा करते थे. भावना ने बताया कि यही वजह रही कि एचआरडी मिनिस्ट्री से भी उनका तबादला कर दिया गया था.        

इसे भी पढ़ें – बकोरिया कांडः डीजीपी डीके पांडेय, एडीजी प्रधान, अनुराग गुप्ता समेत घटनास्थल गए सभी वरीय अफसरों का बयान दर्ज करने का निर्देश

गौरतलब है कि इंडियन सिविल अकाउंट्स सर्विस (आईसीएएस) के सीनियर ऑफिसर जितेंद्र कुमार झा एचआरडी मंत्रालय से पहले मिनिस्ट्री ऑफ इंन्फॉर्मेशन एंड ब्रॉडकास्टिंग, मिनिस्ट्री ऑफ अर्थ साइंस, मिनिस्ट्री ऑफ लेबर, हेल्थ और सीपीडब्ल्यूडी में रहे चुके थे. ट्रांसफर होने से पहले वह लगातार तीन साल तक होम मिनिस्ट्री में थे.

उल्लेखनीय है कि इससे पहले भी बिहार के ही आईएएस मुकेश पांडेय ने आत्महत्या कर ली थी और  इसके पीछे की वजह पारिवारिक विवाद था. हालांकि मुकेश ने आत्महत्या के पहले एक वीडियो भी बनाया था और उसमें आत्महत्या की वजह पारिवारिक विवाद को बताया था.     

 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: