Lead NewsNational

NH पर वायुसेना का शक्ति प्रदर्शन, पहली बार सुखोई की लैंडिंग; गडकरी-राजनाथ भी थे सवार, देखें VIDEO

विमान के लैंड होते ही वहां मौजूद लोगों ने तालियों की गड़गड़ाहट से किया स्वागत

New Delhi : राजस्थान के जालोर में बने राष्ट्रीय राजमार्ग पर इमरजेंसी फील्ड लैंडिंग का आज उद्घाटन हुआ. इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया और चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत शामिल हुए. पहली बार किसी सुखोई एसयू-30 एमकेआई लड़ाकू विमान को राष्ट्रीय राजमार्ग पर उतरा गया है.

आपको बता दें कि इससे पहले C-130J सुपर हरक्यूलिस परिवहन विमान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया को लेकर जालोर में राष्ट्रीय राजमार्ग पर आपातकालीन फील्ड लैंड किया. विमान के लैंड होते ही वहां मौजूद लोगों ने तालियों की गड़गड़ाहट से उनका स्वागत किया.

इसे भी पढ़ें :Ranchi News: मेयर आशा लकड़ा के बयान से भड़के निगम के अधिकारी-कर्मी, हड़ताल, काम के लिए आए लोग निराश

advt

जानें इस लैंडिंग पट्टी की खासियतें

इस परियोजना में आपातकालीन लैंडिंग पट्टी के अलावा कुंदनपुरा, सिंघानिया और बाखासर गांवों में वायु सेना/भारतीय सेना की आवश्यकताओं के अनुसार तीन हेलीपैड (प्रत्येक का आकार 100 x 30 मीटर) का निर्माण किया गया है, जो पश्चिमी अंतरराष्ट्रीय सीमा पर भारतीय सेना और सुरक्षा नेटवर्क के सुदृढ़ीकरण का आधार होगा.
ईएलएफ का निर्माण 19 महीने के अंदर पूरा किया गया है. इसका निर्माण कार्य जुलाई 2019 में शुरू किया गया था और जनवरी 2021 में यह सम्पन्न हो गया. आईएएफ और एनएचएआई की देखरेख में ‘जीएचवी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड ने इसका निर्माण किया है.

इसे भी पढ़ें :कदमा सहेली सेंटर में पोषण सत्र का आयोजन

adv

भारतमाला प्रोजेक्ट का है हिस्सा

यह पट्टी भारतमाला परियोजना के तहत गगरिया-बखासर और सट्टा-गंधव खंड के नव विकसित टू-लेन पेव्ड शोल्डर का हिस्सा है, जिसकी कुल लंबाई 196.97 किलोमीटर है और इसकी लागत 765.52 करोड़ रुपये है. पेव्ड शोल्डर उस भाग को कहा जाता है, जो राजमार्ग के उस हिस्से के पास हो जहां से वाहन नियमित रूप से गुजरते हैं.

इसे भी पढ़ें :राज्य के सभी विश्वविद्यालयों के स्टूडेंट्स को फीस में 25 फीसदी की मिल सकती है छूट, विभाग ने भेजा पत्र

इससे पहले एक्सप्रेसवे पर भी हुई थी मॉक लैंडिग

एक आधिकारिक बयान के अनुसार, भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) ने भारतीय वायु सेना के लिए आपातकालीन स्थिति में विमान उतारने के वास्ते एनएच-925ए के सट्टा-गंधव खंड के तीन किलोमीटर के हिस्से पर इस आपातकालीन पट्टी का निर्माण किया है. इससे पहले अक्टूबर 2017 में, भारतीय वायुसेना के लड़ाकू एवं परिवहन विमानों ने लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर मॉक लैंडिंग की थी ताकि यह दिखाया जा सके कि ऐसे राजमार्गों का उपयोग वायुसेना के विमानों द्वारा आपात स्थिति में उतरने के लिए किया जा सकता है. लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे, जोकि एक राष्ट्रीय राजमार्ग नहीं है, उत्तर प्रदेश सरकार के तहत आता है.

इसे भी पढ़ें :शहर की कई मंदिरों को निशाना बना चुके हैं चोर, पुलिस अब भी जुटी है जांच में

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: