न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मैं कभी मीडिया से डरा नहीं, नियमित बातचीत कीः मनमोहन सिंह

जब भी विदेश यात्रा से लौटता था तो प्रेस कांफ्रेंस जरूर बुलाता था

25

New Delhi: पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर एक बार तंज कसा है. श्री सिंह ने अपनी किताब ‘चेंजिंग इंडिया’ के विमोचन के मौके पर कहा कि उन्हें प्रेस से बात करने में कभी डर नहीं लगा. उन्होंने कहा कि लोग उनके बारे में कहा करते थे कि वे एक मौन प्रधानमंत्री हैं, पर मैं कोई ऐसा प्रधानमंत्री नहीं था जिसे मीडिया से बात करने में डर लगता हो. मैं अक्सर प्रेस कांफ्रेंस करता था. मैं जब भी विदेश यात्रा से लौटता था तो एक प्रेस कांफ्रेंस जरूर बुलाता था और मीडिया के सवालों का जवाब देता था.

किताब में है प्रेस कांफ्रेंसों का जिक्र

उन्होंने कहा कि इस किताब में उन सभी प्रेस कांफ्रेंसों के बारे में बताया गया है जो मैंने कीं. यह किताब उन लोगों को जवाब देगी जो यह कहते थे कि मैं एक मौन प्रधानमंत्री था. मैं पीएम के रूप में अपनी उपलब्धियों का बखान नहीं करना चाहता, पर जो भी काम हुए हैं वो इन पांच खंडों की इस पुस्तक में समाहित हैं.

एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर ही नहीं एक्सीडेंटल फाइनैंस मिनिस्टर भी था

विमोचन के मौके पर मनमोहन सिंह ने इस बात का भी खुलासा किया कि वे न सिर्फ ‘एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ थे, बल्कि वे ‘एक्सीडेंटल फाइनेंस मिनिस्टर’ भी थे. उन्होंने कहा कि जब रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर आइजी पटेल ने इस पद को स्वीकारने से मना दिया था, तब मैं वित्त मंत्री बना था.

भारत एक वैश्विक ताकत बननेवाला है

मनमोहन सिंह ने अपनी किताब ‘चेंजिंग इंडिया’ के विमोचन के मौके पर यह भी कहा कि तमाम गड़बड़ियों के बावजूद भारत एक प्रमुख वैश्विक ताकत बननेवाला है.  उन्होंने कहा, “एक प्रमुख वैश्विक शक्ति के रूप में भारत का उदय एक ऐसा विचार है, जिसका समय आ गया है और धरती पर कोई भी ताक़त इस विचार को रोक नहीं सकती.” मनमोहन सिंह ने केंद्रीय बैंक और केंद्र सरकार के संबंधों के बारे में कहा कि दोनों के बीच मतभेदों को निपटाना जरूरी होता है ताकि दोनों सामंजस्य के साथ काम कर सकें.

पीएम और अर्थशास्त्री के रूप में जीवन का विवरण

सिंह की यह कितान पांच खंडों में प्रकाशित हुई है. ‘चेंजिंग इंडिया’ किताब में कांग्रेस नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार के प्रधानमंत्री के रूप में उनके 10 वर्षों के कार्यकाल और एक अर्थशास्त्री के रूप में उनके जीवन के विवरण शामिल हैं.

राहुल गांधी भी कस चुके हैं तंज

मनमोहन सिंह का बयान ऐसे समय में आया है, जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी अबतक के कार्यकाल के दौरान एक भी संवाददाता सम्मेलन आयोजित न करने के लिए प्रधानमंत्री मोदी पर तंज कस चुके हैं.

इसे भी पढ़ें – अगर 35 लाख लोगों की नौकरी गई है तो मोदी-शाह किन्हें रोजगार देने की बात कर रहे हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: