National

मैं पैसा देने को तैयार हूं,  मोदी बैंकों को पैसा लेने का निर्देश क्यों नहीं देते? :  विजय माल्या

NewDelhi :   शराब कारोबारी विजय माल्या के तेवर अब ढीले पड़ गये हैं. भारत भेजे जाने का डर माल्या को सता रहा है. बदली हुई परिस़्थिति के बीच माल़्या ने कहा है कि मैं सम्मान के साथ यह पूछना चाहता हूं कि प्रधानमंत्री अपने बैंकों को यह निर्देश क्यों नहीं देते कि मैं किंगफिशर को मिलने वाला पब्लिक फंड चुकाने के लिए मैं जो पैसा देने को तैयार हूं, वो उसे ले लें. बता दें कि देश के बैंकों का हजारों करोड़ रुपये का लोन लेकर विदेश भाग जाने वाले शराब कारोबारी विजय माल्या ने गुरुवार को लगातार कई ट्वीट किये है. जान लें कि पीएम मोदी ने बुधवार को 16वीं लोकसभा में अपने भाषण में बिना माल्या का नाम लिए बैंकों का 9000 करोड़ रुपये लेकर भाग जाने वाले एक शख्स की चर्चा की थी. इसके जवाब में माल्या ने कहा कि वह तो पैसा लौटाने को तैयार हैं, लेकिन पीएम मोदी आखिर बैंकों से इसे लेने को कहते क्यों नहीं? अपने एक ट्वीट में भगोड़े कारोबारी माल्या ने कहा, मैं सम्मान के साथ यह पूछना चाहता हूं कि प्रधानमंत्री अपने बैंकों को यह निर्देश क्यों नहीं देते कि  मैं जो पैसा देने को तैयार हूं, वो उसे लें. माल्या ने कहा कि उन्होंने कर्नाटक हाईकोर्ट में इस मसले को निपटाने की पेशकश भी की थी. कहा  कि इसे तुच्छ प्रस्ताव बताकर खारिज नहीं किया जा सकता. कहा कि यह पूरी तरह से वास्तविक, गंभीर, ईमानदार और पूरी हो सकने वाली पेशकश है.

Jharkhand Rai

 

बैंक किंगफिशर एयरलाइंस को दिया गया कर्ज वापस क्यों नहीं लेते : माल्या

मेादी सरकार की ओर इशारा करते हुए माल़्या ने कहा,  अब गेंद दूसरे पाले में है. बैंक किंगफिशर एयरलाइंस को दिया गया कर्ज वापस क्यों नहीं लेते.  माल्या ने एक बार फिर अपना बचाव करते हुए कहा कि उसने तो कोर्ट के समक्ष अपनी करीब 14,000 करोड़ रुपये की संपत्त‍ि रख दी है. एक और ट्वीट में माल्या ने कहा, मैं प्रवर्तन निदेशालय के दावों के बारे में मीडिया में आई इन खबरों पर चकित हूं कि मैंने अपनी संपत्ति छुपाई है. यह जनता को गुमराह करने का शर्मनाक वाकया है,  हालांकि यह बहुत अचरज की बात नहीं है. यदि कोई छुपी संपत्त‍ि होती तो मैं कोर्ट के सामने करीब 14,000 करोड़ रुपये की संपत्ति कैसे खुले आम पेश कर पाता?  बता दें कि नवंबर, 2016 में मुंबई की एक स्पेशल पीएमएलए कोर्ट ने शराब कारोबारी विजय माल्या को भगोड़ा’ घोषित करते हुए माल्या की सभी घरेलू संपत्ति, शेयर और डिबेंचर को जब्त करने का आदेश दिया था.

इसे भी पढ़ें : मोदी विरोधी नेताओं का जुटान शरद पवार के घर, चुनाव पूर्व गठबंधन पर लगी मुहर!

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: