न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हुसैनाबाद के विधायक कर रहे नियमों की अनदेखी, भीड़-भाड़ देखकर बजा रहे हैं हूटर

267

Palamu : लाल बत्ती के इस्तेमाल पर रोक लगाने के पीछे मोदी सरकार का मकसद वीआईपी कल्चर को समाप्‍त करना था, लेकिन नेता अपने ठाठ छोड़ने को तैयार ही नहीं हैं. राज्य में कई नेताओं ने नया जुगाड़ करते हुए इस नये नियम की काट निकाल ली है. नेताओं ने अब अपनी गाड़ियों पर सायरन का इस्तेमाल शुरू कर दिया है.

इसे भी पढ़ें-  नक्सलियों का उत्पाततीन बॉक्साइट ट्रक व एक जेसीबी गाड़ी जलायाठेकेदार को बेरहमी से पीटा

सेंट्रल मोटर वीइकल रूल्स ऐसा करने की इजाजत नहीं देता

पलामू जिले में तो नेता वीआईपी कल्चर छोड़ने को कतई तैयार ही नहीं दिखते. सोमवार को हुसैनाबाद के विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता जिला मुख्यालय मेदिनीगनर में हूटर बजाकर चलते देखे गये. खास बात यह है कि यह नियमों के खिलाफ है और आम लोग भी इससे परेशान हो रहे हैं. सेंट्रल मोटर वीइकल रूल्स किसी भी वाहन को ऐसा करने की इजाजत नहीं देता. इसके सेक्शन 119 में सिर्फ एम्बुलेंस, फायर ब्रिगेड्स, कंस्ट्रक्शन के उपकरण ले जाने वाले वाहनों और पुलिस को इसके इस्तेमाल की छूट मिली है.

लाल-पीली-नीली बत्ती पर रोक लगाने से खुश आम लोगों को अब हूटर की आवाज सताने लगी है. एक स्थानीय नागरिक विनीत शर्मा ने कहा कि बत्ती तो गयी पर हूटर और साइरन ने परेशान कर दिया है. जब तेज आवाज में हूटर बजाती हुई कार हमारे पास से निकलती है तो बहुत कोफ्त पैदा होती है. इमरजेंसी वाहनों के अलावा सायरन किसी गाड़ी पर नहीं होना चाहिए, इससे ध्वनि प्रदूषण भी बढ़ता है.

hotlips top

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

30 may to 1 june

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like