न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पति पर था आरोप, हाजत में पत्‍नी को बंदकर पुलिस ने की गाली-गलौज

धनबाद पुलिस की साख पर लग सकता है बट्टा, गर महिला के आरोप में साबित हुई सच्चाई

160

Dhanbad : एक ओर केंद्र और झारखंड सरकार महिलाओं को सम्मान देने की बात करती है. दूसरी ओर  झारखंड के थानों में महिलाओं पर अत्याचार किया जाता है. ताजा मामला धनबाद का है जहां वासेपुर के एक शख्स पर जिले के एक थाने में एफआइआर हुई थी. पुलिस ने अभियुक्त की पत्नी को उसके तीन साल की बच्ची सहित पूछताछ के लिए उठा कर ले गयी, उसे हाजत में रखा. महिला के साथ थाने में थानेदार ने पूछताछ के दौरान कई दफा आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया. यह आरोप राष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन की अध्यक्ष साधना ओझा और स्वयं पीड़ित महिला ने लगाया है. मीडिया को जब  इसकी भनक लगी और NHRO ने जब इस मामले को संज्ञान में लिया और एसएसपी से इस संबंध में बात की तो महिला को पुलिस ने घर पहुंचा दिया.

mi banner add

इसे भी पढ़ें –सरकार के आदेश के विरोध में ई-विद्यावाहिनी कार्यक्रम का बहिष्कार करेंगे पारा शिक्षक

पीड़ित मिलेगी डीजीपी से, करेगी धनबाद पुलिस की शिकायत

NHRO की राष्ट्रीय अध्यक्ष ने बताया कि बुधवार को पीड़िता के साथ लेकर डीजीपी  डीके पाण्डेय से मिलकर सरायढेला थाने के थानेदार पर कार्रवाई की मांग करेंगी. क्योंकि पुरुष के द्वारा किये गए अपराध के लिए उसकी पत्नी और बच्चे को प्रताडित करना कानून का उलंघन है .पूछताछ के वक्त महिला पुलिस  का होना भी जरूरी है. जबकि सरायढेला थाने में महिला पुलिस मौजूद नहीं थी जब अभियुक्त की पत्नी से थानेदार पूछताछ कर रहे थें.

Related Posts

बकरी बाजार मैदान में कॉम्प्लेक्स बनाने के निर्णय को रद्द करने की मांग, AAP ने मेयर को सौंपा ज्ञापन

पार्टी ने मांग की कि उस मैदान को बच्चों के खेल के मैदान-पार्क के रूप में विकसित किया जाये

इसे भी पढ़ें –21 अगस्त को अपहृत प्रिया सिंह के भाई को गढ़वा पुलिस ने कहा-नौटंकी करते हो, 29 अगस्त को पलामू में…

पुलिस ने दी अपनी सफाई

वहीं जब महिला के साथ थाने में हुए अमर्यादित व्यवहार और पूछताछ के संबंध में महिला को घर पहुंचाने गयी एसआइ  ममता कुमारी से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि पुलिस किसी के साथ अत्याचार नहीं करती, महिलाओं का सम्मान करती है. जबकि एसएसपी ने फोन पर बताया कि मामले की जानकारी नहीं है, पता करता हूं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: