Crime NewsJharkhandLead NewsRanchi

दूसरी महिला के साथ रह रहा है पति, दो महीने से थाने का चक्कर लगा रही है महिला, नहीं मिला न्याय

RANCHI: रांची में एक महिला अपने पति की बेवफाई से परेशान है. पति के जिंदगी में दूसरी महिला के आने से दस साल के वैवाहिक रिश्ते में दरार पड़ गया है. न्याय की आस लिए महिला ने पुलिस थाना और महिला थाना में गुहार लगाई है, लेकिन अभी तक उन्हें न्याय नहीं मिला है. इससे उनका पुलिस प्रशासन से भरोसा उठने लगा है.

इसे भी पढ़ें : जानें दुनिया का सबसे सस्ता स्मार्टफोन कब होगा इंडिया में लांच, कीमत होगी 5 हजार से कम

ram janam hospital
Catalyst IAS

क्या है पूरा मामला

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

राजधानी रांची के गोंदा थाना क्षेत्र निवासी श्यामा देवी (बदला हुआ नाम) की शादी 10 साल पहले मिथिलेश शर्मा के साथ सामाजिक रीति-रिवाज से हुई थी. सब कुछ ठीक चल रहा था, इसी बीच उसके पति के लाइफ में दूसरी लड़की आ गई, अब उसका पति दूसरी महिला के साथ रह रहा है.

पल्ला झाड़ रही पुलिस

इधर महिला ने न्याय की आस से गोंदा थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई. गोंदा थाना पुलिस ने उसके को 13 मार्च 2021 को नोटिस भेजा था, लेकिन अभी तक यह मामला नहीं सुलझ पाया है. कार्रवाई नहीं होता देख महिला फिर से गोंदा थाना गई, इस बार पुलिस ने पीड़िता को महिला थाना जाने कहा, पुलिस ने महिला से कहा कि यह मामला महिला थाना में हल हो जाएगा, इसलिए आप महिला थाना चले जाइए. पीड़ित महिला अब महिला थाने की चक्कर काट रही है और यहां पर काउंसलिंग की बात होती है लेकिन न्याय नहीं मिली.

इसे भी पढ़ें :नीतीश सरकार का बड़ा फैसला, जो अधिकारी अब संपत्ति का नहीं देंगे ब्यौरा उनपर दर्ज होगी FIR

दो महीने से थाने का चक्कर लगा रही है महिला

महिला थाना प्रभारी पीड़िता को यह बोल देती है कि यह मामला गोंदा थाने की है और आप गोंदा थाने चले जाइए. गोंदा थाना जाने के बाद गोंदा थाना प्रभारी महिला थाने के ऊपर अपना पल्ला झाड़ दे रहे हैं. पीड़ित महिला श्यामा देवी ने बताया कि जब तक कि न्याय मुझे नहीं मिलता तब तक हम न्याय की उम्मीद से लड़ेंगे.

एसएसपी से न्याय की उम्मीद

पीड़ित महिला ने बताया कि वो दो महीने से महिला थाने की चक्कर काट रही है, लेकिन अभी तक महिला थाना प्रभारी की ओर से किसी भी तरह से पहल नहीं किया गया है. इसलिए हम हताश होकर इस मामले को एसएसपी के पास ले जाएंगे और उनसे ही न्याय ही उम्मीद है.

इसे भी पढ़ें : Jharkhand News: उपायुक्तों ने 1118 कर्मियों का भविष्य संकट में डाला

Related Articles

Back to top button