न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चक्रवाती तूफान तितली140-150 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से ओडिशा के तटीय इलाकों से टकराया, तबाही

गुरुवार तड़के ओडिशा के तटीय इलाकों में चक्रवाती तूफान तितली टकराया. बंगाल की खाड़ी पर बने दबाव के कारण आया चक्रवाती तूफान तितली का रूप भयावह है.

1,486

 Bhubaneswar : गुरुवार तड़के ओडिशा के तटीय इलाकों में चक्रवाती तूफान तितली टकराया. बंगाल की खाड़ी पर बने दबाव के कारण आया चक्रवाती तूफान तितली का रूप भयावह है. जानकारी दी गयी है कि तितली तूफान की रफ्तार 140-150 किमी प्रति घंटा है. ओडिशा के गोपालपुर में हवा की रफ्तार 102 किमी प्रति घंटा और आंध्र प्रदेश के कलिंगपत्तनम में यह 56 किमी प्रति घंटा आंकी गयी है.  पांच जिलों के जिलाधीशों को निचले इलाके से लोगों को निकालने का आदेश जारी कर दिया गया है.  साथ ही राहत के पर्याप्त इंतजाम किये जा रहे हैं. बता दें कि बुधवार को तूफान के खतरे को देखते हुए ओडिशा और आंध्र प्रदेश ने जरूरी कदम उठाने शुरू कर दिये थे.  आज गुरुवार सुबह ओडिशा के तटीय इलाके गोपालपुर में तूफान ने तबाही मचानी शुरू कर दी. जानकारी के अनुसार गोपालपुर में तूफान के कारण कई पेड़ और बिजली के खंभे जमीनदोज हो गये. पूरे इलाके में तेज बारिश शुरू हो गयी.  जान लें कि तटीय इलाकों में तेज हवाएं चल रही हैं. चक्रवात की भयावहता को देखते हुए ओडिशा सरकार ने 18 जिलों में रेड अलर्ट जारी कर दिया  है.  इससे पूर्व सरकार ने ऐहतियात बरतते हुए बुधवार को तटीय इलाकों से लगभग तीन लाख लोगों को बाहर निकाल लिया था.

इसे भी पढ़ेंः राफेल डील पर फ्रांस मीडिया का दावा,  दसॉ एविएशन के पास रिलायंस के अलावा कोई दूसरा विकल्प था ही नहीं

तीन लाख लोगों को तटीय इलाकों से हटाया गया है

चक्रवाती तूफान तितली की रफ्तार 165 किलोमीटर प्रतिघंटा तक होने की आशंका मौसम विभाग ने आशंका जताई है.  हालांकि भारतीय मौसम विभाग (IMD) ने बुधवार को जानकारी दी थी कि इस चक्रवाती तूफान के कारण 145 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से तेज हवाएं चल सकती हैं.  ओडिशा और आंध्र प्रदेश में एनडीआरएफ की टीमें  तैनात कर दी गयी हैं.  ओडिशा के समुद्र से सटे जिलों में सुबह से ही तेज हवाएं चल रही हैं.   ओडिशा के सीएम नवीन पटनायक ने बुधवार को बताया कि करीब तीन लाख लोगों को तटीय इलाकों से हटाया गया है.  नवीन पटनायक ने विशेष राहत आयुक्त के साथ रिव्यू मीटिंग की. कहा कि अगर जरूरी समझा जायेगा तो और लोगों को भी सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जायेगा.   कहा कि राज्य सरकार पूरी स्थिति पर  नजर बनाये हुए है.   जिलाधिकारियों को अलर्ट पर हैं. गुंजम, पुरी, खुरा और केंद्रापाड़ा से लोगों को निकाला जा रहा है.  कहा गया है कि ओडिशा में कल रात तक तटीय इलाकों से 10,000 लोगों को सरकारी आश्रयगृहों में भेज दिया गया है.

silk_park

इसे भी पढ़ेंःकोर्ट, पीएमओ, राष्ट्रपति, सीएम, मंत्रालय, नीति आयोग और कमिश्नर किसी की परवाह नहीं है कल्याण विभाग को

ओडिशा में स्कूल, कॉलेज 11 और 12 अक्टूबर को बंद

ओडिशा के सभी स्कूल, कॉलेज और आंगनवाड़ी केंद्रों को 11 और 12 अक्टूबर को बंद करने का आदेश सरकार ने दिया है. मुख्य सचिव आदित्य प्रसाद पाधी ने बताया कि राज्य में 11 अक्टूबर को होने जा रहे छात्र संघ चुनाव रद्द कर दिये गये है. अधिकारियों की छुट्टियों केंसल कर दी गयी हैं. 11 और 12 अक्टूबर को भुवनेश्वर, कटक, ढेंकनाल, संभलपुर, खुर्दा और बेरहमपुर में होने वाली रेलवे भर्ती बोर्ड की परीक्षा रद्द कर दी गयी  कुछ इलाकों में बाढ़ की चेतावनी भी जारी की गयी है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: