न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

ऑर्किड हॉस्पिटल में फिर हंगामा, बिल नहीं चुकाने को लेकर हुआ विवाद

पुलिस के हस्तक्षेप के बाद मामला हुआ शांत

58

Ranchi: ऑर्किड हॉस्पिटल में फिर एकबार मरीज और डॉक्टरों के बीच जमकर हंगामा हुआ. परिजन अपने मरीज का शव लेने हॉस्पिटल आये, लेकिन हॉस्पिटल प्रबंधन द्वारा ने मरीज के परिजनों को 74 हजार का बिल पकड़ा दिया. परिजनों के अनुसार, बिल चुकाने के बाद ही शव ले जाने की बात प्रबंधन द्वारा की जा रही थी.

eidbanner

74 हजार का थमाया बिल

मिली जानकारी के अनुसार मिल्लत कॉलोनी पत्थलकुदवा के 58 वर्षीय जुबैर खान को सांस लेने में परेशानी की शिकायत पर शुक्रवार की रात करीब 8 बजे ऑर्किड अस्पताल में भर्ती कराया गया था. रात 11 बजे के आसपास उनकी मौत हो गई. शनिवार सुबह जब परिजन शव लेने पहुंचे तो उन्हें 74 हजार का बिल थमा कर जमा करने को कहा गया. परिजन 74 हजार की बड़ी राशि की मांग से भड़क गए. इधर जुबैर की मौत की खबर सुनकर करीब दो दर्जन से अधिक लोग अस्पताल पहुंच गए थे. परिजनों ने बताया कि उन्हें अस्पताल प्रबंधन से जानकारी दी गई कि जुबैर को एक इंजेक्शन दी गई, जिसकी कीमत 48 हजार है.

परिजनों का आरोप था कि इतनी कीमती दवा देने से पहले उन्हें जानकारी क्यों नहीं दी गई. उनका यह भी आरोप था कि जुबैर की मौत इंजेक्शन लगाने के बाद ही हो गई थी. लेकिन उन्हें इसकी जानकारी देर से दी गई. परिजनों का कहना था कि मरीज को भर्ती करते समय ही 25 हजार जमा करा लिया गया था. उन्हें जो बिल दिया गया उसमें सिर्फ दवा के नाम पर 58 हजार चार्ज किया गया था. हंगामे के बाद लालपुर पुलिस अस्पताल पहुंची. परिजनों से बात की. बाद में अस्पताल प्रबंधन से बात कर शव उनके हवाले करने को कहा. हंगामें के बीच बढ़ती भीड़ और पुलिस के दबाव के बाद अस्पताल प्रबंधन को झुकना पड़ा और शव परिजनों को देना पड़ा.

इधर राज्य के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल रिम्स से भी हंगामें की खबर है. वहां भी डॉक्टर और मरीज के परिजनों के बीच झड़प हुई है.

मेजर हार्ट अटैक आया था मरीज को : प्रबंधन

हॉस्पिटल के जीएम संतोष सिंह ने बताया कि मरीज को मेजर हार्ट अटैक आया था. सिर्फ़ थोम्ब्रोलाइज इंजेक्शन ही एक उपाय जिससे मरीज की जान बचाई जा सकती थी. लेकिन इस इंजेक्शन कीमत 48000 रुपये थी. यह पहले ही मरीज के अटेंडेंट को बता दिया गया था. परिजनों की हामी के बाद ही इलाज शुरू किया गया. उस इंजेक्शन के बाद भी मरीज की जान बचाई नहीं जा सकी. यहां के डॉक्टरों ने पूरी कोशिश की लेकिन वे असफल रहे.

इसे भी पढ़ेंःहर महीने एक लाख किलो से ज्यादा अनाज घोटाले की आशंका, मंत्री ने दिए जांच के आदेश

इसे भी पढ़ेंःलेबर कोर्ट पहुंचा इंडिकोन-वेस्टफालिया की बिक्री का मामला

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: