न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मानव तस्करी के शिकार 1000 पीड़ितों ने लिखा पीएम को पत्र, मानव तस्करी निरोधक विधेयक पारित कराने की मांग

'हम बच गए, हम चाहते हैं कि कोई और भारतीय इन सबसे ना गुजरे'

367

New Delhi: मानव तस्करी की शिकार एक हजार पीड़ितों ने प्रधानमंत्री मोदी के नाम खुला खत लिखा है. इन चिट्ठियों में पीड़ितों ने मांग की है कि प्रधानमंत्री राज्यसभा में मानव तस्करी निरोधक विधेयक को जल्दी पारित करवा दें.

इसे भी पढ़ें-यशवंत,शौरी व प्रशांत ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा, राफेल डील आजाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला

इन चिट्ठियों में लिखे शब्द हर किसी को झकझोर देंगे-

एक दुल्हन जिसके साथ बलात्कार किया गया, एक लड़की जिससे एक वस्तु की तरह बेच दिया गया, एक भिखारी, अंग निकाल लेना और न जाने क्या-क्या. सिर्फ पैसों के लिए मानव तस्करों ने हमें प्रताड़ित किया, हमे पीटा, हमें नशीली दवाइयां दी गईं , जानवरों की तरह हमें ठूंस कर ले जाया गया.

लोकसभा में पारित हो चुका है मानव तस्करी निषेध विधेयक

मानव तस्करी (रोकथाम, संरक्षण और पुनर्वास) विधेयक 2018 को 26 जुलाई को लोकसभा ने पारित कर दिया था. यह मानव तस्करी निरोधक विधेयक भारत का पहला व्यापक विधेयक है, जो अपराध की रोकथाम, संरक्षण और पुनर्वास की बात करता है. विधेयक लाने के लिए केंद्र का शुक्रिया अदा करते हुए पीड़ितों ने इसे संगठित मानव तस्करी के आपराधिक गठजोड़ को तोड़ने के लिए सरकार की ईमानदार कोशिश बताया. इस पत्र पर 1000 से ज्यादा पीड़ितों ने हस्ताक्षर किए हैं.

इसे भी पढ़ें-रंजय सिंह हत्याकांड का मुख्य आरोपी “मामा” पहुंचा सलाखों के पीछे

silk_park

पीड़ितों ने पत्र में लिखा है,

हम लोकसभा में विधेयक पारित कराने के लिए सरकार का धन्यवाद करते हैं और अब हम आपसे गुजारिश करते हैं कि विधेयक को जल्द से जल्द राज्यसभा में पारित कराएं. हमने लंबे समय से इंतजार किया है और हम इसके लिए लड़ते रहेंगे लेकिन भारत को और इंतजार नहीं करना चाहिए.

इसे भी पढ़ें – झारखंड के आधे राज्यसभा सांसद सदन में रहते हैं खामोश

उन्होंने कहा कि लेकिन हम बच गए, और इन त्रासदियों ने हमें मजबूत बनाया. हम इन सब जघन्य अपराधों के चश्मदीद हैं और हम चाहते हैं कि कोई और भारतीय इन सबसे ना गुजरे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: