Education & CareerMain SliderRanchi

राज्य के 322 ITI में इंस्ट्रक्टर की है भारी कमी, 33161 छात्रों को ट्रेंड कर रहे सिर्फ 1960 प्रशिक्षक

Rahul Guru

Jharkhand Rai

Ranchi : झारखंड में इंडस्ट्रीयल ट्रेनिंग की शिक्षा देने वाले इंस्टीट्यूट्स की संख्या 300 से अधिक हैं. लेकिन यहां पढ़ने वाले स्टूडेंट्स को गाइड करने वाले इंस्ट्रक्टर की भारी कमी है. आलम यह है कि इन इंडस्ट्रीयल ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट्स(आइटीआइ) में स्टूडेंट्स पढ़ाई का सिर्फ कोरम पूरा कर रहे हैं. इन ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट्स को मान्यता देने वाली संस्थान नेशनल काउंसिल ऑफ वोकेशनल ट्रेनिंग (एनसीवीटी) के आंकड़े के मुताबिक, झारखंड के 322 आइटीआइ में केवल 1960 इंस्ट्रक्टर हैं.

इसे भी पढ़ें – क्या कृषि क्षेत्र का नया बदलाव देश के किसानों को सिर्फ मजदूर व गुलाम बना देगा

70 हजार सीट में पढ़ रहे 30 हजार स्टूडेंट्स

आंकड़ों के मुताबिक, झारखंड में कुल 322 आइटीआइ हैं. इसमें 61 सरकारी और 261 प्राइवेट आइटीआइ हैं. इन संस्थानों में 70,456 सीट हैं, जहां 33,161 स्टूडेंट्स पढ़ाई कर रहे हैं. इन स्टूडेंट्स का भविष्य 1960 स्टूडेंट्स गढ़ रहे हैं. ये आंकड़े शैक्षणिक सत्र 2019 के हैं. इन आइटीआइ में छह माह से लेकर दो साल तक का कोर्स कराया जाता है. सरकारी आइटीआइ में शैक्षणिक सत्र 2019 के आंकड़ों के मुताबिक, 16796 सीट हैं. जहां 5045 स्टूडेंट्स नामांकन ले रखा है. इसी तरह 261 प्राइवेट आइटीआइ में 53660 सीट हैं, जहां 28116 स्टूडेंट्स एडमिशन ले रखे हैं.

Samford

धनबाद में हैं सबसे अधिक इंस्ट्रक्टर

आंकड़ों के मुताबिक, सबसे अधिक इंस्ट्रक्टर धनबाद में हैं. यहां कुल 440 इंस्ट्रक्टर हैं. बोकारो में 209, चतरा में 01, देवघर में 176, धनबाद में 440, दुमका में 85, हजारीबाग में 235, पूर्वी सिंहभूम में 106, गढ़वा में 10, गिरिडीह में 20, गोड्डा में 51, गुमला में 17, जामताड़ा में 45, खूंटी में 01, कोडरमा में 40, लातेहार में 15, लोहरदगा में 24, पाकुड़ में 13, पलामू में 102, रामगढ़ में 102, रांची में 268, साहेबगंज में 25, सरायकेला-खरसावां में 56, सिमडेगा में 08 और पूर्वी सिंहभूम में 56 इंस्ट्रक्टर छात्रों को पढ़ा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – मॉनसून सत्रः पहले दिन 2584 करोड़ का अनुपूरक बजट पेश, पांच अध्यादेश भी सदन पटल पर रखे गये

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: