Business

देश के विदेशी मुद्रा भंडार में भारी इजाफा, 573 अरब डॉलर के करीब पहुंचा

कोरोना काल में विदेशी निवेशकों की ओर भारतीय बाजार में काफी निवेश किया है. जिसकी वजह से भारत के खजाने में भारी संख्या में डॉलर जमा हो रहे हैं.

 NewDelhi : देश के विदेशी मुद्रा भंडार में जबरदस्त इजाफा हो रहा है. 13 नवंबर को समाप्त सप्ताह में विदेशी करेंसी बढ़कर 573 अरब डॉलर के लगभग हो गयी है. यह बढ़ोत्तरी लगातार सातवें सप्ताह में देखने को मिली है. हालांकि गोल्ड रिजर्व में गिरावट आयी है. जान लें कि कोरोना काल में विदेशी निवेशकों की ओर भारतीय बाजार में काफी निवेश किया है. जिसकी वजह से भारत के खजाने में भारी संख्या में डॉलर जमा हो रहे हैं. साथ ही भारत ने इस दौरान आयात में काफी कटौती की है.  जिस वजह से विदेशी धन कम खर्च हो रहा है.

इसे भी पढ़ें : जम्मू-कश्मीर के नगरोटा में मारे गये आतंकी कमांडो ट्रेनिंग पाये हुए थे, 30 किमी चल कर सांबा बॉर्डर पहुंचे थे, जांच में आया सामने…

  एक सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 4.28 अरब डॉलर बढ़ा

भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा पिछले शुक्रवार को जारी आंकड़ों पर नजर डालें तो एक सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 4.28 अरब डॉलर बढ़कर 572.77 अरब डॉलर हो गया. विदेशी मुद्रा भंडार में लगातार सातवें सप्ताह तेजी दर्ज होने की खबर है.  इससे पहले छह नवंबर को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार करीब आठ अरब डॉलर बढ़कर 568.49 अरब डॉलर, 30 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में 18.3 करोड़ डॉलर बढ़कर 560.71 अरब डॉलर, 23 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में 5.41 अरब डॉलर बढ़कर 560.53 अरब डॉलर पर पहुंचा था.

16 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में 3.61 अरब डॉलर बढ़कर 555.12 अरब डॉलर, 9 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में 5.87 अरब डॉलर बढ़कर 551.51 अरब डॉलर पर तथा 02 अक्टूबर को समाप्त सप्ताह में 3.62 अरब डॉलर बढ़कर 545.64 अरब डॉलर पर रहा  था.

इसे भी पढ़ें : ड्रग्स मामले में कॉमेडियन भारती सिंह, पति हर्ष लिम्बाचिया 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजे गये

गोल्ड रिजर्व में कमी

आरबीआई के अनुसार 13 नवंबर को समाप्त सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार का सबसे बड़ा घटक विदेशी मुद्रा परिसंपत्ति 5.53 अरब डॉलर की वृद्धि के साथ 530.27 अरब डॉलर पर पहुँच गया. स्वर्ण भंडार हालांकि 1.23 अरब डॉलर घटकर 36.35 अरब डॉलर रह गया. इसी क्रम में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष के पास आरक्षित निधि भी डेढ़ करोड़ डॉलर घटकर 4.66 अरब डॉलर रह गयी.

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: