JharkhandLead NewsRanchi

भाजपा के शासन में दोषी हेमंत सरकार कैसे? हर घटना के लिए PFI पर सवाल अनुचित: झामुमो

Ranchi : झामुमो के केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य गुरुवार को भाजपा और खास कर सांसद निशिकांत दुबे पर खूब बरसे. प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि डॉ निशिकांत दुबे ने आज ऐसा ट्वीट किया है जो 25 जुलाई 2018 से संबंध रखता है. उस समय राज्य में भाजपा के रघुवर दास का शासन था. भाजपा के शासन में दोषी हेमंत सरकार कैसे हो सकती है? निशिकांत दुबे ने अपने ट्वीट में पीआइबी होमएफेयर्स, एनआइए, प्रवर्तन निदेशालय व आयकर विभाग को टैग किया है. ट्वीट है- यह झारखंड सरकार का काला सच. प्रतिबंध के बाद भी फल-फूल रहा है. इस ट्वीट के साथ एक अखबार की कटिंग भी लगायी गयी है जिसमें पीएफआइ द्वारा राज्य में चल रहे सामाजिक संरचनाओं को तोड़ने से संबंधित समाचार छपा है. सुप्रियो के मुताबिक यह पाप उनकी सरकार के द्वारा नहीं किया गया, बल्कि ये पाप रघुवर सरकार के समय पला-बढ़ा.

पीएफआइ अतिवादी संगठन

सुप्रियो भट्टाचार्य ने दु:ख जताते हुए कहा कि इस राज्य में जो भी घटनाएं हो रही हैं, उसमें पीएफआइ का हाथ होना बता दिया जाता है जो गलत है. ईडी कहता है कि खान-खनिजों की लूट अवैध कोयले के रेक रघुवर के समय से चल रहे हैं. यही बात राज्य के एक अन्य विधायक सरयू राय भी कह रहे हैं.
सुप्रियो भट्टाचार्य के मुताबिक उन्हें लगता है कि भाजपा और उसके नेतागण पूरी तरह से बौखला गये हैं. सरकार एक के बाद एक जो फैसले लिये जा रही है, पूजा के तुरंत बाद दीपावली के पहले जब मुख्यमंत्री राज्य के हर दरवाजे पर दूसरे फेज की शुरुआत करने जा रहे हैं, उस वक्त में इस प्रकार की भ्रम की स्थिति उत्पन्न की जा रही है. राज्य में एक हजार करोड़ का घोटाला हुआ है, ऐसा बताया जा रहा है. जब पत्थर और बालू में ही एक हजार करोड़ का घोटाला है तो इसे मेजर मिनरल में होना चाहिए, 22 वर्षों में अठारह वर्षों तक तो वो भी एक जिला का, मतलब झारखणड में 24 जिले हैं तो पूरे जिले में 24 हजार करोड़ घोटाला. खाली बालू और पत्थर में तो कोयला और लोहा में भाजपा ने क्या किया होगा, ऐसे-ऐसे आकड़े की बातें हो रही है.

इसे भी पढ़ें: T-20 “रॉयल एसएस” कप सीरीज में भारत और बांग्लादेश संयुक्त विजेता

सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि आंकड़ा उठाइये, 2019 तक माइनिंग के समय में कितने प्राथमिकी/केस दर्ज हैं और 20 से 22 तक कितने मुकदमे दर्ज हैं, कितने राजस्व की बढ़ोतरी हुई. ट्वटिर को भी ये फैक्ट चेक कर लेना चाहिए कि उसकी प्लेटफार्म का यदि दुरुपयोग होता है तो उसकी जवाबदेही भी उसे ही लेनी होगी.

 

Related Articles

Back to top button