GiridihJharkhand

योजनाओं को ठेकेदार आपस में कैसे करते हैं मैनेज, जिला परिषद में दिखायी पड़ा नजारा

Giridih :  कोरोना का प्रभाव संवेदकों में भी दिख रहा है. शनिवार को गिरिडीह के जिला पर्षद में 15वें वित्त आयोग के 14 करोड़ की राशि से जिले के अलग-अलग प्रखंडो में 105 विकास योजनाओं का टेंडर होना था. जिन योजनाओं का टेंडर होना था, उनमें पुल-पुलिया और ग्रामीण इलाकों में सड़क निर्माण की योजना शामिल हैं.

इसे भी पढ़ेंः मोतियाबिंद ऑपरेशन में 12 मरीजों ने गंवायी आंखों की रोशनी, स्वास्थ्य मंत्री ने दिये जांच के आदेश

advt

लिहाजा, टेंडर के लिए टेंडर पेपर डालने के लिए ही संवेदकों की भीड़ लग गई. संवदेको की भीड़ जिला पर्षद में थी. साथ ही शहर के सर्कस मैदान में भी खूब दिखी. जहां संवेदकों के हाथ में टेंडर पेपर के साथ नोटों की गड्डी भी थी.

इस दौरान संवेदकों ने इन योजनाओं को अपने साथी संवेदकों को मैनेज करने को लेकर कोई कसर नहीं छोड़ा. यहां तक कि मैनेज होने वाले संवेदक जितना मुंह खोल रहे थे, वैसे संवेदकों को उतना पैसे दिए जा रहे थे. कुछ ने ये हालत देखकर टेंडर को रद्द करने का मांग की.

इधर जिला पर्षद के कार्यपालक अभियंता भोला राम ने कहा कि टेंडर पूरी पारदर्शिता के साथ ही होगा. 14 करोड़ की लागत से 105 योजनाओं का टेंडर होना है.

इसे भी पढ़ेंः जमशेदपुर में बेटियों के लिए काला शनिवार, पढ़ें चार खबरें लगातार

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: