न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कैसे कह दिया कि यह जंगल तुम्हारा है?

26

Reena Gote

मेरे याया बुबा ने कहा कि यह जंगल हमारा है,
उनके याया बुबा ने कहा था कि यह जंगल हमारा है,
उनके भी याया बुबा ने कहा था कि यह जंगल हमारा है,
हमने भी मान लिया कि यह जंगल हमारा है,

सरकार कहती है कि यह  जंगल हमारा है.
चलो मान भी लिया कि यह जंगल तुम्हारा है।

क्या तुम महसूस करते हो इन जंगलों की आवाज,

पंक्षियों की धुन, झरनों का इठलाना, पेड़-पौधों की बाते?

क्या तुम्हें पहचान है इन जंगलों के जीव जंतुओं की?
क्या तुम्हें पहचान है इस जंगल का रास्ता कहाँ जाता है?
क्या तुम्हें पहचान है यहाँ के लोगों के संस्कृति की?

न न;  जब तुम्हें इसका दर्द ही नहीं, तो कैसा तुम्हारा जंगल।

जंगलों को काटकर सड़क बनाने वाले तुम,
जंगलों में आग लगाकर अपनी रोटी सेंकने वाले तुम,
यहां रहने वालों को जंगली, असभ्य,पिछड़ा कहने वाले तुम..

फिर कैसे कह दिये कि यह जंगल तुम्हारा है?

लेकिन इस जंगल की रक्षा करने वाले हम,
उसकी व्यवस्था में चलने वाले हम,
उसकी धरोहर को बचाने वाले हम,
क्योंकि हमारे याया बुबा ने कहा है कि यह जंगल हमारा है.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: