न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अस्पताल, नर्सिंग होम, क्लीनिक,औषधालय, पैथ लैब को प्रदूषण पर्षद से संचालन सहमति लेनी होगी

31 अगस्त तक ऐसे एक दर्जन से अधिक वर्गीकृत संस्थानों को लेना होगा अथोराइजेशन

37

Ranchi : झारखंड में चल रहे अस्पताल, नर्सिंग होम, क्लीनिक, औषधालय, ब्लड बैंक, पैथ लैब सहित एक दर्जन से अधिक वर्गीकृत संस्थानों को राज्य प्रदूषण नियंत्रण पर्षद से संचालन सहमति लेनी होगी. ऐसे संस्थानों को 31 अगस्त तक की मियाद पर्षद की तरफ से दी गयी है.

राज्य सरकार का मानना है कि इन संस्थानों की ओर से बायो मेडिकल वेस्ट का उत्पादन ही नहीं, बल्कि उसका संग्रहण, भंडारण और परिवहन भी किया जाता है. बायो मेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट रूल 2016 के तहत संचालन सहमति (अथोराइजेशन) के बिना इन संस्थानों को ऑपरेट करने पर रोक लगायी जायेगी.

पर्षद के सदस्य सचिव राजीव लोचन बख्शी ने ऐसे सभी संस्थानों से उपरोक्त प्रमाण पत्र लेने का अनुरोध किया है. उन्होंने कहा है कि संस्थानों द्वारा जल प्रदूषण के अलावा वायु प्रदूषण भी किया जाता है. जो जल प्रदूषण अधिनियम की धारा 25 और वायु प्रदूषण अधिनियम की धारा 21 का उल्लंघन भी है. संस्थानों के लिए बायो मेडिकल क्यूआर कोड जेनरेट किया जायेगा. इसी आधार पर उनकी ट्रैकिंग भी की जायेगी.

इसे भी पढ़ेंःBlood Doner’s Day special: बिना रिप्लेसमेंट के खून देने के हैं निर्देश, डोनर के बाद भी रिम्स नहीं दे रहा ब्लड

क्लिनिकल इस्टैबलिशमेंट एक्ट 2010 के अंतर्गत लाइसेंस भी होगा रद्द

Related Posts

नहीं थम रहा #Mob का खूनी खेलः बच्चा चोरी के शक में तोड़ रहे कानून, कहीं महिला-कहीं विक्षिप्त की पिटायी

बच्चा चोरी की बात महज अफवाह, अफवाह से बचें और सावधानी और सतर्कता रखें

पर्षद की ओर से संचालन सहमति नहीं लेने पर ऐसे संस्थानों का क्लिनिकल इस्टैबलिशमेंट एक्ट 2010 के तहत लाइसेंस भी रद्द करने की अनुशंसा की जायेगी. पर्षद स्वास्थ्य विभाग के पास लाइसेंस रद्द करने की औपचारिकताएं संबंधी अनुरोध पत्र भेजेगा.  झारखंड राज्य प्रदूषण बोर्ड की सूची में जिन संस्थानों को वर्गीकृत किया गया है.

उनमें निजी और सरकारी अस्पताल, नर्सिंग होम, सभी तरह के क्लीनिक, औषधालय, पशु चिकित्सा संस्थान, पैथोलोजिकल प्रयोगशालाएं, ब्लड बैंक, आयुष अस्पताल, अनुसंधान और शैक्षिक संस्थान, स्वास्थ्य शिविर, चिकित्सा कैंप और अन्य शामिल हैं.

इसे भी पढ़ेंःसाल के अंत तक अनुसूचित जाति/जनजाति के 20 लाख लोगों को पाइपलाइन से मिलेगा पानी

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: