न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दुश्मनों को दहलाने स्वदेशी धनुष तोप भारतीय सेना में शामिल हुई

धनुष तोप को सभी प्रकार के इलाकों में नियोजित किया जा सकता है. ये तोप हर मौसम और हालात में पूरी तरह कारगार है.  

75

NewDelhi : पहाड़ और रेगिस्तान में दुश्मनों को ध्वस्त करने में सक्षम स्वदेशी तोप धनुष  सोमवार को भारतीय सेना में शामिल हो गयी.  इसकी मारक क्षमता बोफोर्स तोप से भी ज्यादा है. धनुष तोप भारतीय सेना की ताकत में इजाफा करेंगी.  समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार  स्वदेशी धनुष तोप जबलपुर के ऑर्डिनेंस डिपो में आयोजित औपचारिक कार्यक्रम में आज सेना के हवाले की गयी. बता दें कि पहली खेप में छह धनुष तोप सेना के हवाले की गयी हैं.   जान लें कि  धनुष स्वीडिश तोप बोफोर्स का स्वदेशी संस्करण है.  इसके 95 फीसदी से अधिक कलपुर्जे स्वदेशी हैं.  सेना की ओर से हर मौसम के अनुसार किये गये परीक्षण में यह तोप खरी उतरी है.  

इसे भी पढ़ेंः  उज्ज्वला योजना का हाल :  बिहार, एमपी, यूपी और राजस्थान में 85 फीसदी लाभार्थी आज भी चूल्हे पर पकाते हैं खाना

 2022-23 तक 114 धनुष तोप सेना को सौंप दी जायेगी.

इसका फील्ड गन फैक्टरी में बड़े पैमाने पर उत्पादन शुरू हो गया है.  इस संबंध में भारतीय सेना और रक्षा मंत्रालय ने 19 फरवरी को हरी झंडी दी थी.  जानकारी के अनुसार 2022-23 तक 114 धनुष तोप सेना को सौंप दी जायेगी. 45 कैलिबर की 155 मिलीमीटर की ये तोप पुरानी बोफोर्स की तकनीक पर जबलपुर के ऑर्डिनेस फैक्ट्री बोर्ड ने बनाई है. सेना को 6 धनुष के बाद दिसंबर तक 18 और तोप मिलने की उम्मीद है.  धनुष तोप को सभी प्रकार के इलाकों में नियोजित किया जा सकता है. ये तोप हर मौसम और हालात में पूरी तरह कारगार है.  यह दिन और रात दोनों वक्त सटीक निशाना लगा सकती है. यह पुरानी बोर्फोस से कई मायने में बेहतर है. पुरानी बोर्फोस की रेंज 29 किलोमीटर थी, जबकि धनुष की रेंज 38 किलोमीटर है.

Related Posts

200 से ज्यादा लेखकों-सामाजिक कार्यकर्ताओं ने  पत्र जारी कर कहा,  जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल  370 हटाना असंवैधानिक

कार्यकर्ताओं ने जम्मू और कश्मीर को  दिया गया  विशेष राज्य का दर्जा खत्म करने के केंद्र के फैसले को अलोकतांत्रिक और असंवैधानिक करार दिया है.

SMILE

इसके अलावा भी धनुष में एक और खासियत है. इस तोप में कंप्यूटर लगा हुआ है जो खुद ही गोला लोड कर उसे फायर कर सकता है. जबकि पुरानी बोफोर्स ऑटोमेटिक नहीं थी. लगातार कई घंटों तक फायरिंग के बाद भी धनुष का बैरल गरम नहीं होता. एक धनुष का वजन 13 टन के करीब है और एक तोप की कीमत करीब 14.50 करोड़ रुपये है

इसे भी पढ़ेंः एयर स्ट्राइक का चुनावी फायदा नहीं,  बहुमत से दूर रहेगी मोदी सरकार, राजग को मात्र 267 सीटें :सर्वे

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: