न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जल्द ही झारखंड में कृपा बरसने की उम्मीद! सीएम और मंत्री बाबा की शरण में तो डीजीपी ने ओढ़ा बाबा का चोला

अब जब किसी राज्य के सिस्टम में बाबागर्दी इस कदर हावी हो जाए तो कहा ही जा सकता है कि कुछ हो ना हो कृपा आने का रास्ता साफ हो गया है.

1,231

Ranchi: लगता है कि झारखंड पर जल्द ही कृपा आनी शुरू हो जाएगी. जिस तरीके से राज्य के मुखिया और मंत्री बाबा की शरण में जा रहे हैं, उससे कृपा आने का रास्ता साफ होता नजर आ रहा है. वहीं राज्य के पुलिस प्रमुख ने तो खुद ही बाबा का चोला धारण कर लिया है. अब जब किसी राज्य के सिस्टम में बाबागर्दी इस कदर हावी हो जाए तो कहा ही जा सकता है कि कुछ हो ना हो कृपा आने का रास्ता साफ हो गया है. हाल के दिनों में ही रजरप्पा मंदिर में डीजीपी डीके पांडेय को बिलकुल बाबा के भेष में मां की आराधना करते देखा गया. बाबा का रूप धारण किए पूजा-अर्चना के बाद जब श्री पांडेय बाहर आए तो मीडिया के सामने भी कुछ ऐसा किया कि जैसे वो एक राज्य के डीजीपी नहीं बल्कि कोई बाबा हों. मंत्रोचारण के साथ मीडिया को बाइट दी. इससे पहले भी डीजीपी डीके पांडेय को चतरा के ईटखोरी मंदिर बाबा की शक्ल में पहुंचे. पूजा कर बाहर निकलते ही उनकी नजर वहां एक सपेरे पर पड़ी. सपेरे के पास कई तरह के सांप थे. वो सपेरे के पास जाकर जमीन पर बैठ गये. सपेरे से एक कोबरा सांप लेकर उन्होंने अपने गले पर रखा. कुछ मिनटों तक वो सांप से खेलते रहे. तस्वीरें खिंचवाते रहे. व्हाट्सअप पर ये फोटो मिनटों में वायरल हो गया था.

 

इसे भी पढ़ें – News Wing Breaking: झारखंड कैडर के IFS अफसरों ने PRESIDENT से लगाई गुहार, कहा – सरकार की मंशा…

सीएम बाबा कुमारन स्वामी की शरण में

इधर मुख्यमंत्री का भी एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इस फोटो में सीएम अंतरराष्ट्रीय स्तर के बाबा कुमारन स्वामी के साथ देखे जा रहे हैं. बताया जा रहा है कि भू राजस्व मंत्री अमर बाउरी पर बाबा की खास कृपा बनी रहती है. उन्होंने ही सीएम से बाबा को मिलवाया है. कुमारन स्वामी बोकारो और धनबाद अक्सर आते-जाते रहते हैं. कुछ दिनों पहले बोकारो दौरे पर आए कुमारन स्वामी ने शशि थरूर पर निशाना साधा था. उन्होंने इस बात की गारंटी ली कि 2019 तक अयोध्या में राम मंदिर निर्माण का काम शुरू हो जाएगा. गुरुजी कुमारन स्वामी ने कांग्रेस नेता शशि थरूर के राम मंदिर पर दिए गए बयान पर कहा कि वे अज्ञानी हैं. यह इस देश का दुर्भाग्य है कि राम के देश में जहां 100 करोड़ हिन्दू हैं, वहां प्रभु श्रीराम को ही कोर्ट में अपने अस्तित्व को लेकर प्रमाण देना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ें – राज्य प्रशासनिक सेवा के 700 अफसर नहीं बन  पाये स्पेशल सेक्रेटरी, 60 साल की नौकरी, सिर्फ तीन प्रमोशन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: