Fashion/Film/T.VJamshedpurJharkhand

होली कब है ? कब है होली ? क्‍या आप बता सकते हैं यह क‍िस फ‍िल्‍म का डायलॉग है और किसने बोला था

Jamshedpur:  1975 में बनी फिल्म ने अपनी पटकथा और  प्रसिद्ध कलाकारों के दमदार अभिनय के दम पर  भारतीय सिनेमा में एक इतिहास रचा. इसी फिल्म का एक डायलॉग- होली कब है ? कब है, होली ? आज भी बेहद प्रचलित है. क्या आप बता सकते हैं, यह डायलॉग किसका था ?  ये रहे व‍िकल्‍प- सांभा, वीरू, गब्‍बर और काल‍िया. जवाब ढूंढने में परेशानी है तो पढ़ लें पूरी खबर आपको आसानी हो जाएगी.

दरअसल, सलीम खान और जावेद अख्तर की पटकथा लेखक जोड़ी सलीम-जावेद इस फ‍िल्‍म की पर‍िकल्‍पना लेकर  निर्देशक मनमोहन देसाई और प्रकाश मेहरा के यहां पहुंचे थे. दोनों ने अस्वीकार कर दिया था. वर्ष 1973 में जंजीर की रिलीज़ के लगभग छह महीने बाद  सलीम-जावेद जीपी सिप्पी और उनके बेटे रमेश सिप्पी के संपर्क में आए. रमेश सिप्पी को अवधारणा पसंद आई और उन्‍होंने कहानी को मुकम्‍मल करने के लिए दोनों को काम पर रख ल‍िया. फिल्म के मूल विचार में एक सेना अधिकारी शामिल था जिसने अपने परिवार की हत्या का बदला लेने के लिए दो पूर्व सैनिकों को नियुक्त करने का फैसला किया. सेना के अधिकारी को बाद में एक पुलिसकर्मी में बदल दिया गया क्योंकि सिप्पी को लगा कि सेना की गतिविधियों को दर्शाने वाले दृश्यों को शूट करने की अनुमति प्राप्त करना मुश्किल होगा. सलीम-जावेद ने एक महीने में स्क्रिप्ट पूरी की.

गब्‍बर सिंह का चर‍ित्र वास्‍तव‍िक डकैत का 

ram janam hospital
Catalyst IAS

फ‍िल्‍म के चरित्र गब्बर सिंह को उसी नाम के वास्तविक जीवन के डकैत पर बनाया गया था, जिसने 1950 के दशक में ग्वालियर के आसपास के गांवों को खतरे में डाल दिया था. असली गब्बर सिंह द्वारा पकड़े गए एक पुलिसकर्मी के कान और नाक काट दिए गए थे और अन्य पुलिसकर्मियों को चेतावनी के रूप में छोड़ दिया गया था.  निर्माताओं ने डकैत प्रमुख गब्बर सिंह की भूमिका के लिए डैनी डेन्जोंगपा को उपयुक्‍त माना, लेकिन डैनी ने मना कर द‍िया क्योंकि वह फ‍िरोज खान की धर्मात्मा उस समय निर्माणाधीन थी. इसके बाद दूसरी पसंद अमजद खान को चुना गया. अमजद खान ने इस भूमि‍का के ल‍िए अभिशप्त चंबल नामक पुस्तक पढ़कर खुद को तैयार किया. पुस्‍तक चंबल के डकैतों के कारनामों के बारे में था. यह पुस्तक जया भादुड़ी के पिता तरुण कुमार भादुड़ी द्वारा लिखी गई थी.  संजीव कुमार भी गब्बर सिंह की भूमिका निभाना चाहते थे, लेकिन सलीम-जावेद ने महसूस किया कि दर्शक उन्‍हें इस तरह की भूम‍िका में पसंद नहीं करेंगे.

The Royal’s
Sanjeevani

जय की भूम‍िका के ल‍िए चुना गया था शत्रुघ्‍न स‍िन्‍हा को

निर्माता सिप्पी चाहते थे कि शत्रुघ्न सिन्हा जय की भूमिका निभाएं, लेकिन बात नहीं बनी. अमिताभ बच्चन जो अभी तक बहुत लोकप्रिय नहीं थे, ने अपने लिए भूमिका पाने के लिए कड़ी मेहनत की. 1973 में सलीम-जावेद द्वारा अनुशंसित किए जाने के बाद उन्हें कास्ट किया गया था. सलीम-जावेद रास्ते का पत्थर (1972) में बच्चन के प्रदर्शन से प्रभावित थे. ठाकुर बलदेव सिंह की भूमिका के लिए प्राण पर विचार किया गया था, लेकिन सिप्पी ने सोचा कि संजीव कुमार एक बेहतर विकल्प हैं.  शुरुआत में सलीम-जावेद ने ठाकुर की भूमिका निभाने के लिए दिलीप कुमार से संपर्क किया, लेकिन उन्होंने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया. बाद में दिलीप कुमार ने कहा था कि यह उन कुछ फिल्मों में से एक थी जिसे ठुकराने के लिए उन्हें पछतावा हुआ. शुरुआत में धर्मेंद्र भी ठाकुर की भूमिका निभाने के लिए इच्छुक थे. उन्होंने अंततः भूमिका छोड़ दी जब सिप्पी ने उन्हें बताया कि अगर ऐसा हुआ तो संजीव कुमार वीरू की भूमिका निभाएंगे और हेमामालिनी के साथ जोड़ी जाएगी.

हेमा का नाम सुनते ही धर्मेंद्र ने बदल ल‍िया इरादा

धर्मेंद्र उस दौर में हेमामाल‍िनी को लुभाने की कोशिश कर रहे थे. धर्मेंद्र जानते थे कि संजीव कुमार को भी हेममालिनी में दिलचस्पी है. हेमा मालिनी एक तांगेवाली की भूमिका निभाने के लिए अनिच्छुक थीं लेक‍िन समझाने पर तैयार हो गई. अम‍िताभ बच्चन ने फिल्म की शूट‍िंग शुरू होने से चार महीने पहले जया भादुड़ी से शादी की थी, इसके कारण शूटिंग में देरी हुई. जया भादुड़ी गर्भवती हो गई थी. फिल्म की रिलीज के समय वह दूसरी बार गर्भवती थी. धर्मेंद्र ने अपनी पिछली फिल्म सीता और गीता के दौरान हेमा मालिनी को लुभाना शुरू कर दिया था और उसे आगे बढ़ाने के लिए शोले के लोकेशन शूट का इस्तेमाल किया. अपने रोमांटिक दृश्यों के दौरान धर्मेंद्र अक्सर लाइट बॉयज को शॉट खराब करने के लिए भुगतान करते थे, जिससे कई रीटेक सुनिश्चित होते थे और उन्हें उसके साथ अधिक समय बिताने की अनुमति मिलती थी. इस जोड़ी ने फिल्म की रिलीज के पांच साल बाद शादी कर ली.

सात सप्‍ताह में पूरी हुई थी ट्रेन डकैती की शूट‍िंग

“ये दोस्ती” 5 मिनट के गाने को शूट करने में 21 दिन लगे जबक‍ि उस दृश्य की शूटिंग जिसमें गब्बर ने इमाम के बेटे को मार डाला 19 दिन लगे. पनवेल के पास बॉम्बे-पूणा रेलवे मार्ग पर शूट किए गए ट्रेन डकैती के सीक्वेंस को पूरा होने में सात सप्ताह से अधिक का समय लगा.

गब्‍बर की भूम‍िका में छा गए अमजद खान

फिल्म में गब्बर सिंह को उनकी क्रूरता के बावजूद दर्शकों द्वारा खूब सराहा गया. दर्शक गब्‍बर सिंह‍ के संवाद और तौर-तरीकों से मोहित हो गए थे. और गब्‍बर स‍िंह ने ही होली कब है ? कब है, होली ? डायलॉग ‘शोले’ फ‍िल्‍म में बोला था. संयोग से इस बार दो द‍िन होली होने की वजह से लोग पसोपेश में हैं और एक-दूसरे से जानना चाह रहे क‍ि होली कब है.

ये भी पढ़ें-The Kashmir Files – Movie Analysis : एक बार फिर दोराहे पर खड़ा है सच

Related Articles

Back to top button