न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धार्मिक स्थलों को होल्डिंग नबंर देगा निगम, 1.70 लाख हाउस होल्डर्स रजिस्टर्ड हैं

1,281

Ranchi:  होल्डिंग टैक्स देने के लिए राजधानी के कई हाउस होल्डर्स रांची नगर निगम में रजिस्टर्ड हो चूके हैं. आंकड़ों के मुताबिक अबतक करीब 1.70 लाख होल्डर्स रजिस्टर्ड हो चुके है. निगम अब शहर के विभिन्न वार्डों में स्थित धार्मिक स्थलों (मंदिर, मस्जिद, गूरुद्वारा, गिराजाघरों) को भी होल्डिंग नंबर देने की पहल करेगा. निगम के स्तर पर इसके लिए सर्वे का भी काम किया जा चुका है. इन धार्मिक स्थलों को होल्डिंग टैक्स देने में छूट रहेगी. लेकिन अगर इन स्थलों की आड़ में कोई व्यावसायिक कार्य होता है, तो उससे होल्डिंग टैक्स लिया जायेगा. इस कदम से शहर के सभी धार्मिक स्थलों की जानकारी निगम के पास रिकॉर्ड के रूप में होगी. वहीं इससे यह भी पता लगाया जा सकेगा कि राजधानी के किस इलाके में कितने धार्मिक स्थल हैं.

1.7 लाख हाउस होल्डर्स हैं रजिस्टर्ड, 1.90 लाख होने की है उम्मीद

निगम के राजस्व शाखा के मुताबिक इन दिनों राजधानी के सभी हाउस होल्डर्सों को यूनिक होल्डिंग नंबर जारी करने का काम तेजी से हो रहा है. इससे निगम को यह पता लगाने में सहुलियत होगी कि संबंधित घर किस वार्ड के किस एरिया में है. वर्ष 2017 में, निगम में जहां डेढ़ लाख हाउस होल्डर्स रजिस्टर्ड थे, वहीं 2018 में इन संख्या बढ़कर करीब 1.70 लाख तक पहुंच गयी है. वर्ष 2018 की शुरुआत से ही होल्डिंग टैक्स की बढ़ोतरी के लिए नए हाउस होल्डर्स को जोड़ने का काम तेजी से जारी है. उम्मीद जतायी जा रही है कि जल्द ही यह आकंड़ा 1.90 लाख तक पहुंच जायेगा.

7 करोड़ से बढ़कर 42 करोड़ हुआ निगम का इनकम 

शाखा के अधिकारियों के मुताबिक वर्ष 2016-17 में निगम को होल्डिंग टैक्स से करीब 42 करोड़ रुपये की आय हुई थी. वही 2017-18 में यह आकंड़ा बढ़कर करीब 38 करोड़ तक हो चुका है. जिस तरह से होल्डिंग टैक्स में बढ़ोतरी की पहल की जा रही है, इससे अनुमान है कि यह आंकड़ा गत वर्ष के रिकॉर्ड को तोड़ कर इस वित्तीय वर्ष में आगे निकल जायेगा. मालूम हो कि कुछ साल पहले तक होल्डिंग टैक्स से निगम के 6 से 7 करोड़ रुपये तक की आमदनी होती थी. इतने कम राजस्व से निगम अपने स्तर पर विकास कार्य का भी नहीं करा पाता था. अब जबकि यह राशि 42 करोड़ तक पहुंच चुकी है, तो इन टैक्सों के बदौलत निगम शहर के विकास के लिए कई योजना बनाने की पहल भी कर रहा है. इसमें तालाबों का सौंदर्यीकरण, विभिन्न वार्डो में नाली, सड़क निर्माण और बोरिंग कार्य किया जाना है.

इसे भी पढ़ेंः देवघरः टीम व्यूअर सॉफ्टवेयर की मदद से साइबर क्रिमिनल्स ने उड़ाये रुपये, तीन गिरफ्तार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: