Lead NewsSports

झारखंड के हॉकी खिलाड़ियों को मिलेगी नयी हॉकी स्टिक, सिमडेगा में नये एस्ट्रो टर्फ ग्राउंड की तैयारी

Ranchi : सिमडेगा में 10 मार्च से 18 मार्च तक 11वीं हॉकी इंडिया राष्ट्रीय सब जूनियर महिला चैंपियनशिप का आय़ोजन होना है. इसके बाद जल्दी ही राष्ट्रीय जूनियर महिला हॉकी चैंपियनशिप भी वहीं आयोजित की जायेगी. सब जूनियर के लिए झारखंड की टीम में शामिल खिलाड़ियों की प्रैक्टिस (कैंप) सिमडेगा के एस्ट्रो टर्फ ग्राउंड में जारी है.

खेल विभाग ने अच्छी प्रैक्टिस के लिए कैंप में शामिल खिलाड़ियों को नयी हॉकी स्टिक देने की योजना बनायी है. विभागीय निदेशक जीशान कमर ने सोमवार को सिमडेगा में हॉकी चैंपियनशिप की तैयारियों का जायजा लेने के बाद यह बात कही.

साथ ही कहा कि खेल विभाग सिमडेगा में एक और एस्ट्रो टर्फ हॉकी ग्राउंड तैयार करायेगा. इस दौरान उनके साथ डीसी सुशांत गौरव, हॉकी झारखंड के अध्यक्ष भोलानाथ सिंह समेत अन्य लोग भी उपस्थित थे.

इसे पढ़ें :सबसे अधिक छह बार विश्व चैंपियनशिप जीतनेवाली खेल जगत की सबसे जुझारू खिलाड़ी मैरीकॉम

स्टेडियमों की संख्या बढ़ाने का प्लान

जीशान कमर ने सिमडेगा में प्रस्तावित एक और एस्ट्रोटर्फ हॉकी स्टेडियम और दूसरे खेल स्टेडियमों के निर्माण के लिए डीसी के साथ कई स्थलों का भी भ्रमण किया. श्री कमर के मुताबिक सिमडेगा में वर्षों से और दो-तीन स्टेडियमों का निर्माण कराये जाने की मांग रही है.

सीएम हेमंत सोरेन ने भी सिमडेगा में एक और एस्ट्रोटर्फ हॉकी स्टेडियम की आवश्यकता पर जोर दिया है. इसके अलावा जिला प्रशासन, जनप्रतिनिधि एवं खेल संघों के माध्यम से भी एक और स्टेडियम की मांग की जाती रही है.

यहां कई सारे राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी सामने आते रहे हैं. इसे देखते हुए एक और स्टेडियम के होने से ट्रेनिंग प्रोग्राम में भी मदद मिलगी. जिला मुख्यालय के साथ-साथ राज्य को सबसे अधिक खिलाड़ी देने वाले केरसई प्रखंड के करंगागुड़ी गांव में भी स्टेडियम बनाने की योजना है.

खेल के साथ-साथ पढ़ाई में मदद

खेल विभाग के अनुसार हॉकी खिलाड़ियों के लिए खेल के साथ-साथ पढ़ाई की भी व्यवस्था तय कराने पर सरकार लगी है. सिमडेगा में हॉकी कैंप में शामिल खिलाड़ियों ने निदेशक से अपील करते हुए कहा कि जिस तरह से सरकार खेल के लिए लगातार पहल कर रही है, वही काम खिलाड़ियों की पढ़ाई के लिए भी हो.

निदेशक ने भरोसा दिलाया कि आपदा प्रबंधन विभाग से ग्रीन सिग्नल मिलते ही हॉस्टलों को खोल दिया जायेगा. इससे पढ़ाई और खेल, दोनों का आनंद खिलाड़ी ले सकेंगे.

इसे पढ़ें :जानिये आखिर क्यों धौनी की कप्तानी में IPL चैंपियन बनी CSK टीम का मेंबर रहा खिलाड़ी आस्ट्रेलिया में बना बस ड्राईवर

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: