न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

इतिहासकार रामचंद्र गुहा अहमदाबाद यूनिवर्सिटी जॉइन नहीं करेंगे, एबीवीपी ने राष्ट्रविरोधी करार दिया था

अगर उन्हें गुजरात बुलाया जाता है, तो जेएनयू की तरह ही एक देश विरोधी भावना पनप सकती है.

14

NewDelhi : प्रसिदध इतिहासकार और लेखक रामचंद्र गुहा गुजरात की अहमदाबाद यूनिवर्सिटी जॉइन नहीं कर रहे हैं. इस संबंध में रामचंद्र गुहा ने कहा है स्थितियां काबू से निकल जाने की वजह से वे ऐसा कर रहे हैं. गुहा ने गुरुवार को यह बात कही. बता दें कि इससे दो सप्ताह पूर्व आरएसएस के छात्र संगठन एबीवीपी ने गुहा की नियुक्ति का विरोध करते हुए अहमदाबाद यूनिवर्सिटी से अपील की थी कि उनको दिया गया ऑफर वापस लिया जाये. खबरों के अनुसार 16 अक्टूबर को विवि ने घोषणा की थी कि गुहा को यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ ऑर्ट्स ऐंड साइंसेज में प्रोफेसर के रूप में और गांधी विंटर स्कूल के डायरेक्टर के रूप में नियुक्त किया जायेगा.  इसके बाद 19 अक्टूबर को एबीवीपी ने इस फैसले का विरोध जताया. इस क्रम में एबीवीपी के शहर सचिव प्रवीण देसाई ने द इंडियन एक्सप्रेस से बताया कि हमने अहमदाबाद यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार बीएम शाह को ज्ञापन सौंपा था. जिसमें कहा था कि हमें हमारे शैक्षिक संस्थानों में प्रबुद्ध जनों की जरूरत है, राष्ट्रविरोधियों की नहीं.

इसे भी पढ़ें : दोषी करार नेताओं पर आजीवन प्रतिबंध लगाने की याचिका पर सुनवाई को तैयार SC

आप बुला रहे हैं, वह एक कम्युनिस्ट है

palamu_12

कहा कि हमने रजिस्ट्रार के सामने गुहा की किताबों में प्रकाशित देश विरोधी बातें भी रखीं.  बताया कि जिसे आप बुला रहे हैं, वह एक कम्युनिस्ट है.  अगर उन्हें गुजरात बुलाया जाता है, तो जेएनयू की तरह ही एक देश विरोधी भावना पनप सकती है. उनके कार्यों को भारत की हिंदू संस्कृति की आलोचना बताया गया. जानकारी के अनुसार वीसी को दिये गये ज्ञापन में रामचंद्र गुहा की नियुक्ति कैंसल करने की मांग की गयी थी.  सूत्रों के अनुसार विश्विद्यालय प्रशासन ने सोमवार को गुहा से जॉइनिंग डेट टालने पर चर्चा की. बता दें कि उन्हें एक फरवरी 2019 को विश्वविद्यालय जॉइन करना था.  सूत्रों के अनुसार विश्वविद्यालय प्रशासन पर राजनीतिक दबाव था.  इसके दो दिन बाद गुहा ने ट्वीट करके विश्वविद्यालय जॉइन नहीं करने की जानकारी दी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: