न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

इतिहासकार रामचंद्र गुहा फंसे विवाद में, बीफ खाते हुए तस्वीर पोस्ट की, भाजपा ने जताई आपत्ति

आप बीफ खाकर और सोशल मीडिया पर तस्वीरें पोस्ट कर लंच का आनंद नहीं ले रहे हैं, आप जान बूझकर लाखों लोगों के विश्वास का मजाक उड़ा रहे हैं,  

36

 NewDelhi :  इतिहासकार रामचंद्र गुहा द्वारा अपने ट्विटर अकाउंट पर एक विवादास्पद तस्वीर पोस्ट किये जाने से विवाद पैदा हो गया है. मामले ने अब तूल पकड़ लिया है.  बता दें कि गुहा ने जो तस्वीर पोस्ट की है, उसमें वे बीफ खाते दिखाई दे रहे हैं.  यह जानकारी खुद रामचंद्र गुहा ने दी है.  पोस्ट के साथ रामचंद्र गुहा ने ट्वीट किया, ओल्ड गोवा में जादुई सुबह गुजारने के बाद हमने पणजी में लंच किया, चूंकि गोवा भाजपा शासित राज्य है, इसलिए जश्न में मैंने बीफ खाने का फैसला किया. बता दें कि रामचंद्र गुहा ने गोवा की कई तस्वीरें पोस्ट की हैं.  गुहा के ट्वीट के बाद भाजपा बिफर पड़ी. भाजपा के पूर्व सांसद बलबीर पुंज ने रामचंद्र गुहा के इस पोस्ट पर कड़ी आपत्ति जताते हुए उन्होंने ट्वीट किया, आप बीफ खाकर और सोशल मीडिया पर तस्वीरें पोस्ट कर लंच का आनंद नहीं ले रहे हैं, आप जान बूझकर लाखों लोगों के विश्वास का मजाक उड़ा रहे हैं, ये आपको सूट करता है, ये देखना मुश्किल नहीं है कि आपकी सेकुलर मानसिकता ने कैसे आपको संवेदनहीन इंसान में बदल दिया है. जान लें कि काफी समय से गुहा भाजपा की नीतियों से नाराज हैं.  वे भाजपा की आलोचना करते रहे हैं.

यूनिवर्सिटी को इंटेलेक्चुअल्स की जरूरत है, एंटीनेशनल्स की नही  

वरिष्ठ पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या का मामला हो या फिर गुजरात की यूनिवर्सिटी में पढ़ाने से इनकार करने का फैसला हो. पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के बाद रामचंद्र गुहा ने केंद्र की भाजपा सरकार और आरएसएस पर निशाना साधा था. कहा था कि भारत में स्वतंत्र लेखकों और पत्रकारों का उत्पीड़न किया जा रहा है और उन्हें सताया जा रहा है, उनकी हत्या की जा रही है. लेकिन, हमें चुप नहीं होना है. बता दें कि इतिहासकार रामचंद्र गुहा को हाल ही में गुजरात की अहमदाबाद यूनिवर्सिटी ने पढ़ाने का ऑफर दिया था, लेकिन इसका छात्र संगठन अभाविप ने विरोध किया था. कहा था कि यूनिवर्सिटी को इंटेलेक्चुअल्स की जरूरत है, एंटीनेशनल्स की नहीं.  इसके बाद गुहा ने यूनिवर्सिटी का ऑफर ठुकरा दिया था.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: