न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हिंदपीढ़ी : 20 दिन पहले ही सिविल सर्जन से की गयी थी चिकनगुनिया फैलने की शिकायत, फिर भी सोया रहा प्रशासन

345

Ranchi : रांची शहर के हिंदपीढ़ी इलाके में जिस तरह से डेंगू और चिकनगुनिया का प्रकोप फैला है, उससे एकबार फिर से रांची नगर निगम और स्वास्थ्य विभाग की कार्यशैली पर सवाल खड़ा किया जा रहा है. आखिर इतने दिनों से इलाके में सफाई व्यवस्था क्यों नहीं हुई थी? जब इससे पहले हिंदपीढ़ी इलाके में चिकनगुनिया बीमारी फैलने की शिकायत करीब 20 दिन पहले ही सिविल सर्जन से की गयी थी, तो उन्होंने इस पर ध्यान क्यों नहीं दिया? जब चिकनगुनिया ने विकराल रूप धारण कर लिया, तब जाकर स्वास्थ्य विभाग की नींद खुली और स्वास्थ्य शिविर इस क्षेत्र में लगाये गये. अब स्थिति यह है कि लोगों के ब्लड सैंपल की जांच की जा रही है. करीब 65 लोगों से सैंपल लिये गये हैं. इनमें से करीब 59 की जांच की गयी है, जिनमें से 40 को चिकनगुनिया और पांच लोगों को डेंगू होने की पुष्टि हुई. इनमें से तीन मरीजों की मौत भी हो चुकी है.

Trade Friends

इसे भी पढ़ें- RMC ने 10 हजार से अधिक की आबादी को मच्छरदानी में कर रखा है कैद

विभाग नहीं है गंभीर

मालूम हो कि राजधानी रांची की जनता को मच्छर के प्रकोप से बचाने के लिए नगर निगम पहले से ही हर महीने करीब दो करोड़ रुपये खर्च कर रहा है. इसके बावजूद इस अभियान को लेकर निगम और स्वास्थ्य विभाग कितने गंभीर हैं, इसका स्पष्ट उदाहरण है शहर के बीचोंबीच स्थित हिंदपीढ़ी इलाके में फैलता चिकनगुनिया का प्रकोप. बरसात के मौसम में इस बीमारी के फैलने की संभावना ज्यादा से ज्यादा व्यक्त की जा रही है.

इसे भी पढ़ें- पांच साल में झारखंड से गायब हुए 2789 बच्चे, लगभग आधे का नहीं मिल सका सुराग

शहर के कई इलाके हुए प्रभावित, अब खुली स्वास्थ्य विभाग की नींद

शहर के ऐसे कई इलाके हैं, जहां इन दिनों चिकनगुनिया और डेंगू फैलने की जानकारी निगम और स्वास्थ्य विभाग को मिल रही है. ऐसे इलाकों में हिंदपीढ़ी के अलावा चर्च रोड, मेन रोड, कर्बला चौक, आजाद बस्ती, थड़पखना, डोरंडा, पुरानी रांची शामिल हैं. न्यूज विंग रिपोर्टर ने प्रभावित हिंदपीढ़ी इलाके में शनिवार को जाकर पीड़ितों की जानकारी ली. मंटू चौक में रहनेवाले बीमारी से प्रभावित हासिम भाई ने न्यूज विंग को बताया कि इलाके की साफ-सफाई को लेकर स्थानीय पार्षद को वह कहते रहे हैं. सफाई की बात तो दूर, पार्षद द्वारा उनकी बात को सुनकर अनसुना तक कर दिया जाता है. निजाम नगर में रहनेवाले चिकनगुनिया से पीड़ित शाहीन नाज और जसीम मलिक का कहना है कि जब चिकनगुनिया ने पूरी तरह से हिंदपीढ़ी के क्षेत्र में पांव पसार लिया, तब जाकर स्वास्थ्य विभाग की नींद खुली और आनन-फानन में क्षेत्र में स्वास्थ्य जांच शिविर लगाया गया. यहां से मरीजों का ब्लड सैंपल लिया गया. अब चिकनगुनिया से संबंधित दवाई विभाग द्वारा दी जा रही है.

इसे भी पढ़ें- मासूम बच्चों के पोषाहार पर भी ग्रहण, चार माह से नहीं मिल रहा पोषाहार, कैसे तंदरूस्त होंगे बच्चे

Related Posts

#NIA ने भाकपा माओवादी के कमांडर छोटू खेरवार की पत्नी ललिता देवी को किया गिरफ्तार

नक्सलियों को पैसा म्यूचुअल फंड में निवेश कराने के मामले में ललिता कई महीनों से फरार थी.

WH MART 1

पहले से होती कार्रवाई, तो ऐसी स्थिति नहीं होती

स्थानीय निवासी नदीम खान का पूरे मामले पर कहना है कि हालांकि हिंदपीढ़ी इलाके में मच्छर मारने के लिए फॉगिंग कराने की बात सरकारी रिकॉर्ड में दर्ज है, इसके बावजूद निगम और स्वास्थ्य विभाग पहले से ही इस पर कोई कार्रवाई करता, तो शायद यह स्थिति नहीं होती. जैसे ही बीमारी फैलने की जानकारी विभाग को दी गयी, तब जाकर यहां हेल्थ कैंप लगाकर 59 लोगों के ब्लड सैंपल की जांच की गयी. उन्होंने बताया कि पीड़ितों में से 40 लोगों में चिकनगुनिया, चार लोगों को चिकनगुनिया के साथ डेंगू और एक व्यक्ति में डेंगू के लक्षण पाये गये हैं. सैंपलिंग को आधार माना जाये, तो क्षेत्र के 66 प्रतिशत से ज्यादा लोग मच्छरजनित रोग की चपेट में हैं.

इसे भी पढ़ें- अंडरग्राउंड केबलिंग का काम हो गया अंडरग्राउंड, फ्यूज हो गया 24 घंटे बिजली सप्लाई का दावा

प्रभावित इलाकों में लगाया जा रहा है कैंप : स्वास्थ्य अधिकारी

पूरे मामले पर एसीएमओ डॉ नीलम चौधरी का कहना है कि सूचना मिलने के बाद विभाग ने टीम गठित कर प्रभावित इलाकों में कैंप लगाया. ब्लड की जांच कर जो भी इससे प्रभावित पाये गये, उन्हें रिम्स भेजा गया. इसके बाद भी विभाग की तरफ से प्रभावित इलाके में टीम जाकर सूचना लेने का काम कर रही है. वहीं, निगम द्वारा सफाई कार्य नहीं किये जाने के सवाल पर निगम के कार्यपालक अधिकारी रामकृष्ण कुमार ने कहा कि यह बात पूरी तरह से गलत है. निगम पहले ही प्रभावित इलाके में फॉगिंग का कार्य करता रहा है. वहीं, इलाके की सफाई कार्य को लेकर स्थानीय लोग और पार्षद द्वारा लोगों को जागरूक करने का काम भी निरंतर किया जा रहा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like