Education & CareerJharkhandLead NewsRanchi

झारखंड सेंट्रल यूनिवर्सिटी में नियुक्ति घोटाला की हायर एजुकेशन की टीम ने जांच शुरू की

वर्ष 2009 से ही यूनिवर्सिटी में चल रहा है अवैध नियुक्ति का खेल

Ad
advt

Ranchi: राजधानी रांची के ब्राम्बे स्थित सेंट्रल यूनिवर्सिटी झारखंड में हायर एजुकेशन की टीम ने जांच शुरू र दी है.  सेंट्रल यूनिवर्सिटी के पूर्व वाइस चांसलर पर अपने रिश्तेदारों को गलत तरीके से सेंट्रल यूनिवर्सिटी में नौकरी लगाने का आरोप लगा है. जांच के लिए मिनिस्ट्री ऑफ एजुकेशन, एमओई की पांच सदस्यीय टीम रांची पहुंची है.

इसे भी पढ़ें : Jharkhand: बिजली बिल की वसूली में आ रही कमी, महाप्रबंधकों से एमडी ने मांगी रिपोर्ट

advt

बताया जाता है कि यूनिवर्सिटी में 2009 से 2015 तक दर्जन से अधिक एसोसिएट प्रोफेसरों की नियुक्ति के साथ अन्य पदों पर  नियमों को ताक पर रखकर की गई है. पूर्व कुलपति डीटी खटिंग के कार्यकाल में ये नियुक्तियां हुई थी. खटिंग मार्च 2009 से फरवरी 2014 तक कुलपति रहे थे. इनके बाद के कुलपति ने मामले की जांच करवाई थी. जिसमें नियुक्ति के आरोपों को सही पाया गया था. बताया जा रहा है कि नियमों को ताक पर रखकर कुल 62 नन टीचिंग व 50 टीचिंग स्टाफ की नियुक्ति हुई है.

बताया जा रहा है कि वीसी नंद कुमार यादव इंदु के कार्यकाल में हुई नियुक्तियों की जांच होगी. सीवीसी ने नियुक्तियों की विस्तृत जांच कराने के लिए मिनिस्ट्री ऑफ एजुकेशन को पत्र लिखा है. बताया जा रहा है कि इंदु के कार्यकाल में हुई नियुक्तियां भी जांच के घेरे में है. आरोप है कि इंदु ने रिश्तेदारों के साथ पत्नी के रिश्तेदारों की भी नियुक्तियां की हैं. बताया जा रहा है कि यूनिवर्सिटी में वर्ष 2009 से ही अवैध नियुक्तियों का खेल खेला जा रहा है.

advt

advt
Adv

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: