Court NewsLead News

हाइकोर्ट की सख्त टिप्पणी, 11 साल से गुमशुदा लड़की का एक माह में पता लगाये गिरि़डीह पुलिस अन्यथा छीने जा सकते हैं अफसरों के मेडल

Ranchi : झारखंड हाइकोर्ट ने गिरिडीह एसपी को मौखिक तौर पर कड़ी फटकार लगाते हुए कहा है यह कैसा न्याय है कि 11 साल बीतने के बाद भी गुमशुदा लड़की का पता नहीं चल पाया. गवाहों की ओर से कहा गया है कि लड़की भाग गयी है, लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हो पायी है. पुलिस यह नहीं पता कर सकी है वह किसके साथ भागी है. उस युवती की मां की भी हत्या हो चुकी है लेकिन इसकी गुत्थी अब तक नहीं सुलझ पायी है. हाइकोर्ट के न्यायमूर्ति राजेश शंकर की कोर्ट ने वर्ष 2011 में युवती के अपहरण से संबंधित मामले में सुनवाई की. नाराज कोर्ट ने कहा कि 1 माह के भीतर अगर लापता युवती के बारे में पता नहीं चल सका तो अदालत सख्त रवैया अपनायेगी.

संभव है की वर्ष 2011 के बाद से गिरिडीह में पदस्थापित एसपी के मेडल को भी वापस लेने को लेकर भी दिशा-निर्देश जारी कर सकती है. गिरिडीह पुलिस की कार्यशैली पर नाराजगी जताते हुए कोर्ट ने कहा कि मानवीय तरीके से भी यह सही नहीं है कि गुमशुदा लड़की 11 साल बाद भी बरामद नहीं हो सकी है.

इसे भी पढ़ें:भारत ने चीन को क्यों कहा- हम ताइवान नहीं, LAC पर उड़े तो उड़ा देंगे

ram janam hospital
Catalyst IAS

बड़े लोगों के मामले जल्द सुलझा लिये जाते हैं लेकिन छोटे लोगों के मामले पर पुलिस मौन रह जाती है. हाइकोर्ट के न्यायाधीश जस्टिस राजेश शंकर की अदालत ने बोधी पंडित की याचिका पर सुनवाई की. कोर्ट ने मामले में झारखंड हाइकोर्ट के अधिवक्ता इंद्रजीत सिन्हा को इस मामले के लिए अमेकस क्यूरी नियुक्त किया है.

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

बता दें कि गिरिडीह की एक युवती की गुमशुदगी की शिकायत वर्ष 2011 में उसकी मां ने दर्ज करवाई थी. लेकिन अब तक पुलिस उसे बरामद नहीं कर सकी है. गवाहों की ओर से कहा गया था कि लड़की किसी के साथ भाग गयी है. बाद में उसकी मां की भी हत्या हो गयी.

इसे भी पढ़ें:विधायक अंबा ने सांसद जयंत को दी सलाह,कहा- आंखों पर लगी बीजेपी की अहंकार वाली पट्टी हटाएंगे तब महंगाई नजर आएगी

Related Articles

Back to top button