Corona_UpdatesRanchi

हाईकोर्ट ने लिया #Corona पर राज्य की तैयारी पर संज्ञान, पूछा – जांच के लिए कितने किट हैं मौजूद

Ranchi : झारखंड हाईकोर्ट ने कोरोना वायरस और राज्य की तैयारी पर संज्ञान लिया .कोरोना वायरस से लड़ने के लिए राज्य में उपकरण की कमी सहित अन्य मामले को लेकर शुक्रवार को हाइकोर्ट में सुनवाई हुई. सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा है कि कोरोना जांच के लिए कितनी किट उपलब्ध है, कितने लोग राज्य के बाहर से आये हैं और कितने लोगों को होम क्वॉरटाइन किया गया.

राज्य सरकार को इसकी पूरी जानकारी सात अप्रैल से पहले कोर्ट में दाखिल करनी है. शुक्रवार को इस मामले की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए सुनवाई हुई. अगली सुनवाई की तारीख 7 अप्रैल को तय की गयी है.

advt

इसे भी पढ़ें – #Lockdown_Effect: लोगों में बढ़ रही चिड़चिड़ाहट, रिनपास और सीआइपी के हेल्पलाइन पर रोजाना आ रहे 60 से 70 कॉल्स

न्यूज विंग ने प्रमुखता से लिखी थी खबर

30 मार्च को न्यूज विंग ने इसपर प्रमुखता से सवाल उठाये थे. रिम्स के पास 500 कोरोना जांच किट ही थे, जिसमें से 98 किट इस्तेमाल हो चुके हैं. कोरोना मरीजों की जांच के लिए जिस जांच किट का उपयोग किया जा रहा है, उसकी संख्या 500 से 550 के बीच ही थी.

जिसमें से 98 किट का इस्तेमाल हो चुका है. लगभग 400 किट ही बचे हैं. अगर बड़ी संख्या में मरीज एक साथ आ जायेंगे तो रिम्स में जांच कैसे संभव हो पायेगा.

जिस तरीके से गांव मोहल्ले में लोग सोशल डिस्टेंसिंग को नहीं मान रहे हैं. एक जगह एकत्रित हो रहे हैं. ऐसे में कोरोना का एक भी संक्रमित मिला, तो पूरा का पूरा इलाका संक्रमित हो जायेगा. इसे नाकारा नहीं जा सकता.

अगर ऐसा हो गया, तो शायद ही सभी की तत्काल जांच हो सकेगी. इसको लेकर स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने जल्द से जल्द केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से कोरोना जांच किट और पीपीई किट उपलब्ध कराने की मांग की थी पर अभी तक पहुंच नहीं पाया है.

इसे भी पढ़ें – राज्य में बढ़ा #Corona संक्रमण तो मात्र 350 वेंटिलेटर ही बनेंगे सहारा, सरकार ने और 380 वेंटिलेटर का ही दिया है ऑर्डर

रिम्स में मात्र 50 वेंटिलेटर ही मौजूद

दरअसल राज्य में प्राईवेट और सरकारी दोनों मिलाकर कुल 350 वेंटिलेटर ही मौजूद हैं. मात्र 350. बता दें कि राज्य के सबसे बड़े अस्पताल में ही मात्र 50 वेंटिलेटर की सुविधा उपलब्ध है. इसके अलावा अन्य दो बड़े अस्पातल एमजीएम जमशेदपुर और पीएमसीएच में क्रमशः 5 और 4 वेंटिलेटर हैं.

इसमें से भी कुछ खराब हैं. वहीं रिम्स के 25 बेड को आपातकाल के लिए सुरक्षित रखा गया है. वहीं निजी अस्पतालों के 261 बेड को चिन्हित किया गया है.

इसे भी पढ़ें – #Corona पॉजिटिव के संपर्क में आये शख्स के घर पहुंची बोकारो पुलिस, 29 मार्च को पीड़ित के साथ आसनसोल से लौटा था बगोदर

कोरोना से निपटने के लिए राज्य सरकार ने दिये हैं 380 नये वेंटिलेटर के ऑर्डर

राज्य में कोरोना से निपटने और वेंटिलेटर की कमी को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग ने 380 नये वेंटिलेटर के ऑर्डर दिये हैं. स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री के साथ भी हुए बैठक में झारखंड के वेंटिलेटर की स्थिति का लेकर चिंता जतायी थी और जल्द से जल्द मुहैया कराने की भी मांग की थी. अभी 380 वेंटिलेटर के ऑर्डर की डिलिवरी नहीं हुई है.

इसके अलावा पीपीई किट और कोरोना जांच किट की भी मांग की गयी थी, जिसकी अचानक कमी हो सकती है. हालांकि स्वास्थ्य मंत्री ने भरोसा दिलाया है कि किसी भी हाल में संसाधन की कमी नहीं होने दी जायेगी.

इसे भी पढ़ें – #PMModi की अपीलः 5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए दीया जलाकर कोरोना के अंधेरे को दूर भगाएं

 

Nayika

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: