Court NewsLead NewsNationalTOP SLIDER

हाईकोर्ट ने कहा, देर रात घूमने वालों से कभी भी सवाल कर सकती है पुलिस

Mumbai : बॉम्बे हाईकोर्ट का कहना है कि देर रात बाहर मौजूद लोगों से सवाल करने का पुलिस को पूरा अधिकार है. कोर्ट में तीन साल पुराने मामले में सुनवाई हुई, जिसमें एक शख्स के खिलाफ नशे में गाड़ी चलाने और पुलिस से बचकर भागने के आरोप थे.

इस मामले में पुलिसकर्मी ने FIR दर्ज कराई थी. अब कोर्ट ने व्यक्ति के खिलाफ दर्ज हुई FIR को रद्द करने से इनकार कर दिया है.

इसे भी पढ़ें :Bharat Bandh: ट्रेड यून‍ियनों की दो दिनी राष्‍ट्रव्‍यापी हड़ताल का झारखंड के जमशेदपुर में खासा असर, देखिए तस्‍वीरें

ram janam hospital
Catalyst IAS

क्या है मामला

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार, 2 फरवरी, 2019 को सब-इंस्पेक्टर ने FIR दर्ज कराई थी. पुलिसकर्मी उस दौरान विले पार्ले में नशे में वाहन चलाने वालों की जांच के लिए तैनात था. तब देर रात 1.50 बजे वहां से एक ड्राइवर गुजरा. रोकने की कोशिश करने पर वह बैरिकेड को टक्कर मारता हुआ भाग गया. हालांकि, पुलिस ने उसका पीछा किया था और अंधेरी पुल के पास रोक लिया था.

तब पुलिस ने पाया कि दो कारों में सात लोग मौजूद थे. इनमें दो महिलाएं भी शामिल थी. पुलिस का कहना है कि पहली कार का ड्राइवर नशे में था और जांच से इनकार कर रहा था. इतना ही नहीं उसने रिश्वत देने की भी कोशिश की. रिपोर्ट के मुताबिक, जांच में युवक पॉजिटिव आया और उसके पास ड्राइविंग लाइसेंस नहीं था.

इसके बाद समूह ने अपने फोन से वीडियो शूट करने की कोशिश की और जुर्माने की पर्ची पर दस्तखत करने से इनकार कर दिया. उस दौरान दोनों पक्षों के बीच झगड़ा हुआ. FIR में आरोप लगाए गए कि 7 लोगों ने पुलिसकर्मियों के साथ बदसलूकी की और मौके पर भेजे गए अतिरिक्त लोगों के साथ भी हाथापाई की.

इसे भी पढ़ें :BIG Breaking :  बंगाल विधानसभा में BJP और TMC विधायकों में हाथापाई, कपड़े फाड़े, देखें वायरल VIDEO

धाराओं पर सवाल उठाए

मामले में याचिकाकर्ता की वकील रोहिनी वाघ ने धाराओं पर सवाल उठाए. रिपोर्ट के मुताबिक, वह दूसरी कार में था और पहली कार में से महिलाओं के उतरने के बाद सीट बदल ली थी. कहा गया कि युवक ने शराब नहीं पी थी. वकील ने यह भी का कि याचिकाकर्ता ने नया काम शुरू किया और उसका कोई आपराधिक इतिहास नहीं है.

कोर्ट का कहना है कि इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि याचिकाकर्ता अलग कार में बैठा था और पहली कार में बैठी महिलाओं के साथ सीट बदल ली थी. उन्होंने कहा, ‘यह ध्यान रखने वाली बात है कि इसके बाद पुलिस के साथ गाली गलौज और मारपीट की गई.’

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS : केंद्र सरकार ला रही नया पोर्टल, PM आवास, उज्जवला समेत 15 योजनाओं का लाभ एक साथ ले पाएंगे

 

Related Articles

Back to top button