न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

छठी जेपीएससी मुख्य परीक्षा पर रोक लगाने की मांग वाली याचिका को हाई कोर्ट ने किया खारिज

896

Ranchi : जेपीएससी द्वारा आयोजित होनेवाली छठी जेपीएससी मुख्य परीक्षा पर रोक लगाने लिए दायर याचिका को झारखंड हाई कोर्ट ने खारिज कर दी. इसके पूर्व में सुनवाई पूरी करने के बाद अदालत ने फैसला सुरक्षित रख लिया था. गुरुवार को जस्टिस डॉ एसएन पाठक की अदालत ने फैसला सुनाते हुए कहा कि प्रतियोगिता के हर पत्र में न्यूनतम पास अंक लाना अनिवार्य है. किसी विषय के दो पत्रों को मिलाकर न्यूनतम अंक मान्य नहीं हो सकता. कोर्ट ने कहा कि पूर्व में भी इस तरह के कई मामले आये थे. सरकार और जेपीएससी के नियमों के अनुसार हर पेपर में न्यूनतम उत्तीर्ण अंक लाना अनिवार्य है. प्रार्थियों के हर पेपर में न्यूनतम उत्तीर्ण अंक नहीं हैं, इस कारण उन्हें मुख्य परीक्षा के लिए सफल घोषित नहीं कर जेपीएससी ने गलती नहीं की है. इस कारण सभी याचिकाएं खारिज की जाती हैं.

क्या है मामला

प्रार्थी जय गुड़िया एवं अन्य ने याचिका दायर कर कहा था कि उन्होंने संबंधित विषय में न्यूनतम अंक हासिल किये हैं. हर पेपर में न्यूनतम अंक नहीं मिले हैं. जेपीएससी को विषय के अनुसार अंकों की गणना की जानी चाहिए पेपर के अनुसार नहीं. जेपीएससी के अधिवक्ता संजय पिपरावाल ने कहा कि जेपीएससी ने नियमों के अनुसार निर्णय लिया है. रिजल्ट प्रकाशित करने में हाई कोर्ट के आदेशों का पालन भी किया गया है. सुनवाई के बाद अदालत ने याचिका खारिज कर दी.

तय समय पर होगी जेपीएससी मुख्य परीक्षा : जेपीएससी

जेपीएससी के सचिव पी कौर ने कहा कि छठी जेपीएससी मुख्य परीक्षा आयोग द्वारा तय किये गये समय पर ही आयोजित की जायेगी. ज्ञात हो कि छठी जेपीएससी मुख्य परीक्षा की समय-सारणी आयोग द्वारा नवंबर में जारी कर दी गयी थी.

इसे भी पढ़ें- नयी बिजली दर में फंस सकता है पेंच, ग्रामीण और शहरी दर एक समान करने पर आपत्ति

इसे भी पढ़ें- कड़ाके की ठंड में शराब नीति पर झूम रही झारखंड की राजनीति

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: