JharkhandMain SliderNEWSRanchi

सरकारी नौकरी के लिए 2016 में बनी नियोजन नीति को  HC ने बताया गलत, कोई भी किसी जिले में कर सकता है आवेदन

विज्ञापन

Ranchi : झारखंड सरकार द्वारा लागू नियोजन नीति को चुनौती देने वाली याचिका पर झारखंड हाइकोर्ट ने सोमवार को महत्वपूर्ण फैसला सुनाते हुए राज्य सरकार के फैसले को गलत करार दिया है. हाइकोर्ट के आदेश के बाद अब झारखंड में वर्ष 2016 में बनी नियोजन नीति लागू नहीं होगी. हाइकोर्ट की तीन न्यायाधीशों की बृहद खण्डपीठ ने सर्वसम्मति से यह आदेश पारित किया है. तीन जजों की बृहद खण्डपीठ में जस्टिस एचसी मिश्र,जस्टिस एस चंद्रशेखर और जस्टिस दीपक रोशन शामिल हैं.

यहां बता दें कि अब तक सरकार की नियोजन नीति में अनुसूचित जिलों में गैर अनुसूचित जिलों के लोगों को नौकरी के लिए अयोग्य माना गया था. जबकि अनुसूचित जिलों के लोग गैर अनुसूचित जिले में नौकरी के लिए आवेदन कर सकते थे. लेकिन हाइकोर्ट के आदेश के बाद अब झारखंड के किसी भी जिले का निवासी राज्य के किसी एक जिले से नौकरी के लिए आवेदन दे सकता है.

इसे भी पढ़ें – CGL के आवेदन को हो गये एक साल, JSSC के पास स्टूडेंट्स का अब भी फंसा है 20 करोड़ रुपया

advt

प्रार्थी सोनी कुमारी ने दायर की थी याचिका

नियोजन नीति को चुनौती देते हुए प्रार्थी सोनी कुमारी के द्वारा याचिका दायर की गयी थी. जिसमें कहा गया था कि प्रार्थी गैर अनुसूचित जिले की रहने वाली है और उसने दूसरे जिले में हाइस्कूल शिक्षक नियुक्ति की परीक्षा में शामिल होने के लिए आवेदन दिया था.

लेकिन उनका आवेदन यह कहते हुए रद्द कर दिया गया कि वह गैर अनुसूचित जिले की हैं. आवेदन रदद् किये जाने के बाद प्रार्थी के द्वारा हाइकोर्ट का दरवाजा खटखटाते हुए याचिका दायर की गयी थी.अदालत ने अपना फैसला सुनाते हुए कहा  कि उनमें जो बहाली थी, उनको रद्द करते हुए सरकार दोबारा नियुक्ति नीति प्रक्रिया शुरु करें

21 अगस्त को झारखंड हाइकोर्ट के तीन न्यायाधीशों की बृहद खंडपीठ में इस मामले की अंतिम सुनवाई करते हुए फैसला सुरक्षित रख लिया गया था. सुनवाई के दौरान बचाव पक्ष के अधिवक्ताओं ने राज्य की नियोजन नीति को सही ठहराते हुए अदालत में कहा कि झारखंड में कई परिस्थितियों को ध्यान में रखकर ही यह नीति बनायी गयी है.

इसे भी पढ़ें – इस सच को जानिये, आपके बच्चों का करियर दिहाड़ी मजदूर जैसी होने वाली है!

adv
advt
Advertisement

8 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button