JharkhandLead NewsRanchi

जातीय जनगणना पर गृह मंत्री से 26 सितंबर को हेमंत सोरेन करेंगे मुलाकात, भाजपा का मिला साथ

Ranchi : सीएम हेमंत सोरेन शनिवार को दिल्ली दौरे पर रवाना हो गये. 26 सितंबर को उनकी अगुवाई में एक सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल गृह मंत्री अमित शाह से भेंट करेगा. राज्य में जातीय जनगणना कराये जाने और सरना धर्म कोड के मसले पर उनके पास अपनी बात रखेगा. टीम में भाजपा ने भी शामिल होने पर सहमति दे दी है. प्रदेश भाजपा अध्यक्ष और सांसद दीपक प्रकाश भाजपा की ओर से इसमें शरीक होंगे.

न्यूज विंग से बातचीत में दीपक प्रकाश ने कहा कि वे दिल्ली जा रहे हैं. राज्यहित में कई मसलों पर वहां केंद्र से बातें होंगी. भाजपा के अलावा कांग्रेस से दो और अन्य दलों आजसू पार्टी, राजद, वाम दलों के प्रतिनिधि भी प्रतिनिधिमंडल में शामिल होंगे.

इसे भी पढ़ें :रघुवर दास ने की नगर आयुक्त से बात, बिरसा नगर में 10 दिनों के भीतर लाभुकों को पीएम आवास का किया जायेगा आवंटन

ram janam hospital
Catalyst IAS

प्रतिनिधिमंडल में सुदेश महतो और भोक्ता भी

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

प्रतिनिधिमंडल में कांग्रेस की ओर से मंत्री आलमगीर आलम, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष राजेश ठाकुर, आजसू पार्टी प्रमुख सुदेश कुमार महतो, राजद से मंत्री और विधायक सत्यानंद भोक्ता, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के कमलेश सिंह, सीपीआइ (एमएल) के विनोद सिंह, सीपीआइ से भुवनेश्वर मेहता, सीपीएम से सुरेश मुंडा, मासस से पूर्व विधायक अरूप चटर्जी शामिल हैं.

गौरतलब है कि पिछले दिनों विधानसभा के मानसून सत्र में राज्य में जातिगत जनगणना कराये जाने का मसला खूब जोर-शोर से उठा था.

इस दौरान सीएम ने घोषणा की थी कि इसे लेकर सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल पीएम से भेंट करेगा. इसके बाद प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात करने का निर्देश जारी किया गया.

इसे भी पढ़ें :बंपर सरकारी नौकरी : बिहार में एएनएम स्टाफ नर्स के 8853 पोस्ट के लिए करें अप्लाई

भाजपा की पहल का स्वागत

मंत्री रामेश्वर उरांव और मिथिलेश कुमार ठाकुर ने प्रदेश भाजपा की ओर से सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल में शामिल होने पर खुशी जतायी है. कहा है कि राज्यहित के मसले पर सभी को साथ आना चाहिए.

रामेश्वर उरांव ने एक सवाल के जवाब में मीडिया से कहा कि अगर किसी कारण केंद्र सरकार राज्य में जातिगत जनगणना कराने को तैयार न हो तो भी राज्य सरकार को अपने दम पर ओबीसी और आदिवासियों की जनगणना करानी चाहिए. बिहार की ही तर्ज पर राज्य सरकार भी ऐसे फैसले पर विचार करे.

इसे भी पढ़ें :NEWSWING IMPACT: थोक शराब कारोबार मामले में PIL, हेमंत सोरेन, बसंत सोरेन, विनय चौबे, पिंटू, जोगेंद्र तिवारी समेत 26 को बनाया पार्टी

Related Articles

Back to top button