न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हेमंत करकरे की बेटी ने कहा, पिता कहते थे, आतंकवाद का कोई धर्म नहीं , कोई भी धर्म हत्या करना नहीं सिखाता

चूंकि हेमंत करकरे मेरे पिता हैं इसकी वजह से नहीं, बल्कि शहीदों का हमेशा सम्मान किया जाना चाहिए.

74

NewDelhi :  मुंबई आतंकी हमले में शहीद हुए हेमंत करकरे  की बेटी जुइ नवारे ने कहा  है कि मेरे पिता कहा करते थे कि आतंकवाद का कोई धर्म नहीं होता और कोई भी धर्म हत्या करना नहीं सिखाता . नवारे 2008 मालेगांव बम धमाके की आरोपी और भोपाल लोकसभा सीट से भाजपा की उम्मीदवार प्रज्ञा सिंह ठाकुर द्वारा मुंबई आतंकी हमले में शहीद हुए हेमंत करकरे के बारे में कही गयी बातों पर प्रतिक्रिया दे रही थीं.

mi banner add

बता दें कि प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा था कि महाराष्ट्र की आतंकवाद निरोधक शाखा (एटीएस) के प्रमुख हेमंत करकरे की मौत इसलिए हुई थी क्योंकि उन्होंने श्राप दिया था कि उनका सर्वनाश होगा. बाद में विरोध के चलते प्रज्ञा ठाकुर को अपने बयान पर माफी मांगनी पड़ी थी.

इसे भी पढ़ें –  EVM वहीं खराब होती है जहां दलित-अल्पसंख्यक वोट हैं : सिब्बल

मैंने सोशल मीडिया पर प्रज्ञा ठाकुर के बयानों को देखा

इंडियन एक्सप्रेस को दिये अपने  इंटरव्यू में जुइ नवारे ने कहा, मैंने सोशल मीडिया पर प्रज्ञा ठाकुर के बयानों को देखा था. मैंने कई लोगों की प्रतिक्रिया भी पढ़ी. चूंकि हेमंत करकरे मेरे पिता हैं इसकी वजह से नहीं, बल्कि शहीदों का हमेशा सम्मान किया जाना चाहिए. इस क्रम में नवारे ने कहा, मेरे पिता एक सीधे-सादे व्यक्ति थे. चाहे नशीली दवाओं के उपयोग को खत्म करने या नक्सलियों से लड़ने का मामला हो, वे जमीनी स्तर के दृष्टिकोण में विश्वास करते थे.

नक्सलवाद के खिलाफ उनकी लड़ाई में, उनका मानना था कि गोलियों से समस्या कभी खत्म नहीं होगी. उन्होंने हमें सिखाया कि आतंकवाद का कोई धर्म नहीं है. कोई भी धर्म किसी को भी एक-दूसरे को मारना नहीं सिखाता है. यह एक विचारधारा है जिसे पराजित करना है.

नवारे ने कहा कि पुलिस में अपने जीवन के 24 साल के करियर में, उन्होंने सभी की मदद की. यहां तक कि अपनी मृत्यु में भी वह अपने शहर, अपने देश को बचाने की कोशिश करते रहे. वे अपनी वर्दी से प्यार करते थे. अपनी वर्दी को हम लोगों और अपने जीवन से ज्यादा महत्व देते थे. मैं बस इतना चाहती हूं कि हर कोई इसे याद रखे.

हेमंत करकरे की बेटी जुइ नवारे ने कहा कि मैं प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहती. मैं उन्हें या उनके बयानों का सत्कार नहीं करना चाहती. मैं केवल हेमंत करकरे के बारे में बात करना चाहती हूं. वो एक रोल मॉडल की तरह हैं और उनका नाम सम्मान के साथ लिया जाना चाहिए.

इसे भी पढ़ें – BJP ने मालवा-निमाड़ का गढ़ जीतने के लिए उतारे नये योद्धा, मोदी के नाम पर मांग रहे वोट

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: