न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हेमंत करकरे शहीद लेकिन पुलिस अधिकारी के तौर पर सही नहीं थी भूमिका- सुमित्रा महाजन

मालेगांव ब्लास्ट आरोपी साध्वी प्रज्ञा के बाद लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने करकरे पर दिया बयान

1,233

New Delhi: पूर्व एटीएस चीफ हेमंत करकरे को लेकर साध्वी प्रज्ञा के विवादित बोल के बाद लोकसभा स्पीकर ने भी बयान दिया है. सुमित्रा महाजन ने कहा कि हेमंत करकरे शहीद हुए हैं, क्योंकि ड्यूटी पर तैनाती के वक्त उनकी मौत हुई. लेकिन एटीएस चीफ के तौर पर उनका कार्य उत्कृष्ट नहीं था.

‘एटीएस चीफ के तौर पर काम उत्कृष्ट नहीं’

इंदौर से आठ बार सांसद रहीं सुमित्रा महाजन ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, ‘हेमंत करकरे के दो पहलू हैं. वह शहीद हुए क्योंकि ड्यूटी पर तैनाती के दौरान उनकी मौत हुई, लेकिन एक पुलिस अधिकारी के रूप में उनकी भूमिका सही नहीं थी, हमारा कहना है कि यह सही नहीं है.’

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ेंः2019 के 31 मार्च तक सिंचाई परियोजनाओं पर खर्च हुए 4114.45 करोड़, फिर भी खेतों में नहीं पहुंचा पानी

आगे अपनी बात रखते हुए उन्होंने कहा कि हालांकि, इस बात का सबूत नहीं है, लेकिन उन्होंने सुना था कि हेमंत करकरे कांग्रेस नेता और भोपाल से पार्टी के उम्मीदवार दिग्विजय सिंह के दोस्त थे.

साथ ही याद दिलाया कि जब दिग्विजय सिंह मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री थे, तो उन्होंने अक्सर आरएसएस पर बम बनाने और आतंकी संगठन होने का आरोप लगाया.

स्पीकर महाजन ने आरोप लगाया कि इंदौर से महाराष्ट्र एटीएस द्वारा की गई गिरफ्तारी पूर्व सीएम के इशारे पर हुई थी.

दिग्विजय ने किया पलटवार

Related Posts

#Delhi_ Violence : जांच के लिए दो एसआइटी का गठन,  आप पार्षद ताहिर हुसैन पर एफआइआर दर्ज, फैक्ट्री सील

दिल्ली हिंसा की जांच के लिए विशेष जांच टीम (एसआईटी) का गठन किया गया है.  दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच के तहत दो एसआईटी का गठन किया गया है.

सुमित्रा महाजन की इस टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए, दिग्विजय ने ट्वीट किया, ‘सुमित्रा ताई, मुझे गर्व है कि आप मुझे अशोक चक्र विजेता शहीद हेमंत करकरे के साथ जोड़ रही हैं. आपके सहयोगी उनका अपमान कर सकते हैं, लेकिन मैंने हमेशा देश के हित, राष्ट्रीय एकता और अखंडता के बारे में बात करने वालों का समर्थन किया है.’

दिग्विजय ने ये भी ट्वीट किया, ‘मुझे गर्व है कि मुख्यमंत्री के रूप में मैंने बजरंग दल और सिमी दोनों पर प्रतिबंध लगाने की सिफारिश करने का साहस किया. मैंने देश को शीर्ष पर रखा, नीच राजनीति को नहीं.’

इसे भी पढ़ेंःअग्रवाल ब्रदर्स हत्याकांडः मुख्य आरोपी लोकेश चौधरी भगोड़ा घोषित

दिलीप पाटीदार को लेकर भी पूछे सवाल

सुमित्रा महाजन ने यह भी कहा कि हिरासत में प्रताड़ित होने वाली साध्वी प्रज्ञा ठाकुर अकेली नहीं थीं. उन्होंने दिलीप पाटीदार का उदाहरण दिया, जिन्हें नवंबर 2008 में इंदौर से महाराष्ट्र एटीएस ने पूछताछ के लिए गिरफ्तार किया था.

उन्होंने कहा कि पाटीदार कभी नहीं लौटे, और उनके लापता होने का मुद्दा लोकसभा और अदालत में उठा था. महाजन ने आरोप लगाया कि वह पुलिस हिरासत में मारे गए. उन्होंने कहा, ‘ये तथ्य हैं, किसी को इस पर जवाब देना चाहिए.’

इसे भी पढ़ेंःश्रम विभाग : एडवाइजरी कमेटी की बैठक महज खानापूर्ति, ना प्रोसिडिंग और ना कार्रवाई ही हुई

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like