Main SliderRanchi

हेमंत की गठबंधन सरकार रघुवर की गठबंधन सरकार से 24 दिन पहले कर रही है मंत्रिमंडल का विस्तार, जानें मंत्रियों के नाम

Ranchi: 23 दिसंबर यानि मतगणना वाले दिन ही तय हो गया था कि हेमंत झारखंड के अगले सिरमौर बनने जा रहे हैं. ताजपोशी पांच दिनों के बाद 28 दिसंबर को हुई. उसी दिन हेमंत सरकार के मंत्रिमंडल का पहला विस्तार हुआ.

हेमंत सोरेन के साथ दो कांग्रेसी विधायक आलमगीर आलम, रमेश्वर उरांव और एक राजद के विधायक सत्यानंद भोक्ता ने मंत्री पद की शपथ ली. झारखंड विधानसभा की संरचना के मुताबिक, सूबे में मुख्यमंत्री समेत 12 मंत्री होने चाहिए. 28 दिसंबर को सीएम समेत तीन मंत्रियों के शपथ लेने के बाद आठ मंत्रियों की जगह खाली है.

इसे भी पढ़ेंः#BJP सांसद के बिगड़ैल बोलः कहा-‘शाहीनबाग के लोग आपके घर में घुसेंगे, बहन-बेटियों का रेप करेंगे’

advt

हेमंत सोरेन के मंत्रिमंडल विस्तार ने काफी चर्चा बटोरी. बीजेपी ने बयान जारी कर जेएमएम और कांग्रेस पर आरोप लगाया. हेमंत सोरेन को बीजेपी की तरफ से दबाव में बताया गया. उनके दिल्ली दौरे पर भी सवाल उठे.

54 दिनों बाद हुआ था रघुवर मंत्रिमंडल का विस्तार

लेकिन 2014 के विधानसभा चुनाव के बाद जो हुआ था, वो इस बार से ज्यादा बहस का विषय है. कुछ ऐसा ही संयोग रघुवर सरकार के साथ भी हुआ था. रघुवर दास के साथ चार मंत्री सीपी सिंह, लुईस मरांडी, नीलकंठ सिंह मुंडा और चंद्रप्रकाश चौधरी ने 28 दिसंबर को ही शपथ ली थी. हेमंत और रघुवर दोनों की सरकार एक गठबंधन वाली सरकार है.

मंत्री पद की शपथ लेने वाले विधायकों के नाम

बीजेपी आजसू के साथ चुनाव लड़कर आयी थी तो जेएमएम कांग्रेस के साथ चुनाव में था. लेकिन गौर करने की बात है कि रघुवर सरकार को मंत्रिमंडल का पूरा विस्तार करने में शपथ ग्रहण के बाद 54 दिन लगे थे.

28 दिसंबर 2014 के शपथ ग्रहण समारोह के बाद दोबारा फिर से 20 फरवरी 2015 को रघुवर सरकार के छह मंत्रियों सरयू राय, नीरा यादव, रामचंद्र चंद्रवंशी, राज पालिवार, रणधीर सिंह और अमर बाउरी ने शपथ ली थी.

adv

वहीं हेमंत की गठबंधन की सरकार को दोबारा मंत्रिमंडल का विस्तार करने में एक महीना लगा. 28 दिसंबर 2019 को सीएम पद का शपथ लेने के बाद 28 जनवरी 2020 को हेमंत सरकार के मंत्रिमंडल का विस्तार हो रहा है. जो रघुवर सरकार के मुकाबले 24 दिन कम है.
इसे भी पढ़ेंः#DelhiElection: अनुराग ठाकुर के ‘देश के गद्दारों को गोली मारो’ वाले भड़काऊ बयान पर चुनाव आयोग ने मांगी रिपोर्ट

दोनों सरकार में फंसा 12वें मंत्री का पेच

रघुवर दास ने अपने पूरे कार्यकाल में किसी को 12वां मंत्री नहीं बनाया. इसे लेकर लगातार पांच साल चर्चा होती रही. लेकिन रघुवर दास ने किसी को 12वां मंत्री बनने का मौका नहीं दिया. फिलवक्त ऐसा ही कुछ हेमंत सोरेन की सरकार में देखने को मिल रहा है.

बाद में भले ही हेमंत सोरेन किसी को 12वां मंत्री बनने दें, लेकिन मंगलवार को मंत्रिमंडल के विस्तार कार्यक्रम में सात मंत्री ही शपथ लेंगे. जिसमें दो कांग्रेस के और पांच जेएमएम के हो सकते हैं. 12वें मंत्री को लेकर जेएमएम और कांग्रेस के बीच अभी तक उलझन सुलझ नहीं पायी है. कांग्रेस इस पद को अपने खाते में लाना चाहती है, तो वहीं जेएमएम चार विधायक पर एक मंत्री पद देने की बात पर अड़ा है.

प्रदीप यादव और बंधु तिर्की जेवीएम से बागी होने और कांग्रेस से करीब होने के बाद 12वें मंत्री पद का दावा कर रहे हैं. इसी गुत्थी के सुलझने का इंतजार दोनों विधायक कर रहे हैं. कांग्रेस में विधिवत शामिल होने की औपचारिकता पूरा नहीं करने के पीछे भी प्रदीप और बंधु की यही लाचारी है.

ये विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ

1) चंपई सोरेन
2) जगरनाथ महतो
3) हाजी हुसैन
4) मिथिलेश कुमार ठाकुर
5) जोबा मांझी
6) बन्ना गुप्ता
7) बादल पत्रलेख

इसे भी पढ़ेंःलोहरदगा: हालात सामान्य होने के बाद उपद्रवियों ने ट्रक में लगायी आग, छठे दिन भी कर्फ्यू जारी

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button