न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड में ह्यूमन ट्रैफिकिंग को रोकने के लिए कूलियों, ऑटो और रिक्शा चालकों की ली जायेगी मदद

राज्य बाल आधिकार संरक्षण आयोग की बैठक में लिया गया निर्णय

62

Ranchi : झारखंड में बढ़ती ह्यूमन ट्रैफिकिंग को रोकने की मुहिम से ऑटो चालक, रिक्शा चालक, रेलवे कूली को भी जोड़ा जायेगा. इनकी मदद से ही बच्चों को ह्यूमन ट्रैफिकिंग का शिकार होने से पहले बचाया जा सकता है. इससे राज्य से ह्यूमन ट्रैफिकिंग की घटनाओं को कम किया जा सकता है. यह फैसला बुधवार को उपायुक्त कार्यालय सभागार में राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की एसडीपीओ, रेलवे पुलिस, महिला पुलिस सहित विभिन्न एनजीओ के प्रतिनिधियों के साथ हुई बैठक में लिया गया. राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष आरती कुजूर ने कहा कि ट्रैफिकिंग रोकने के लिए तत्पर संस्था द्वारा रेस्क्यू कर लोगों को छुड़ाया जाता है, लेकिन उसके बाद संबंधित विभाग में उसका एडमिशन नहीं हो पाता है. ऐसे में इन तमाम मुद्दों को लेकर संबंधित विभाग के साथ बैठक की जायेगी.

ट्रैफिकिंग के शिकार बच्चों की काउंसलिंग पर चर्चा

बैठक में झारखंड में ह्यूमन ट्रैफिकिंग को रोकने को लेकर चर्चा की गयी. इसमें एनजीओ और ह्यूमन ट्रैफिकिंग को रोकने से जुड़े लोगों के बीच अहम मुद्दों पर बातचीत की गयी. बैठक के दौरान कमी को भी दूर करने और राज्य में बढ़ रही ह्यूमन ट्रैफिकिंग को रोकने को लेकर जानकारियां दी गयीं. साथ ही तस्करी के शिकार हो रहे बच्चों की किस तरह से काउंसलिंग की जाये, इस पर भी विशेष रूप से चर्चा की गयी.

Aqua Spa Salon 5/02/2020
Related Posts

#Bermo: उद्घाटन के एक माह बाद भी लोगों के लिए नहीं खोला जा सका फ्लाइओवर और जुबली पार्क

144 करोड़ की लागत से बना है, डिप्टी चीफ ने कहा-अगले सप्ताह चालू कर दिया जायेगा

ह्यूमन ट्रैफिकिंग को रोकने में रेलवे पुलिस की भूमिका अहम

बैठक में बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष आरती कुजूर ने कहा कि ह्यूमन ट्रैफिकिंग को रोकने में रेलवे पुलिस की अहम भूमिका रहती है. ऐसे में ट्रैफिकिंग रोकने के लिए जितनी भी संस्थाएं हैं, उन सबों को रेलवे पुलिस के साथ समन्वय बनाकर ह्यूमन ट्रैफिकिंग को रोकने का काम करना चाहिए. साथ ही रेलवे प्लेटफॉर्म पर सीसीटीवी कैमरा लगाने और खराब पड़े सीसीटीवी कैमरा को दुरुस्त करने की बात कही गयी.

इसे भी पढ़ें- चार सालों में रघुवर सरकार ने अपने प्रचार-प्रसार में खर्च किए तीन अरब रुपए

इसे भी पढ़ें- 11 साल की बच्ची का सिर काट साथ ले गये अपराधी, दुष्कर्म में असफल होने पर दिया घटना को अंजाम ?

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like